Visitors have accessed this post 76 times.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अफसरों को कितना भी नैतिकता का पाठ पढ़ा दें, लेकिन बेलगाम अफसर सरकार की फजीहत करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. कहीं आईएएस अधिकारी सोशल मीडिया पर सरकार की खिल्ली उड़ा रहा हैं, तो एक आईपीएस अधिकारी सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ जाकर राम मंदिर बनाने की कसम खाते नजर आ रहे हैं. तजा मामला डीजी होमगार्ड के पद पर तैनात आईपीएस अधिकारी सूर्यकुमार शुक्ला से जुड़ा है. इनका एक वीडियो इन दिनों वायरल ही जिसमें वे अयोध्या में राममंदिर बनाने का संकल्प लेते नजर आ रहे हैं.

पिछले दिनों लखनऊ विश्वविद्यालय मुस्लिम कारसेवक मंच द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कुछ लोग राम मंदिर बनाने के लिए शपथ ले रहे थे. उनमें आईपीएस अधिकारी सूर्यकुमार शुक्ला भी मौजूद थे. उन्होंने मुस्लिम कार सेवक मंच के अध्यक्ष आजम खान और अन्य के साथ राम मंदिर बनाने का संकल्प लिया.

सूर्यकुमार शुक्ला यूपी कैडर के 1982 बैच के आईपीएस अधिकारी है और इस वक्त डीजी होमगार्ड के पद पर तैनात हैं. खुले मंच से सूर्यकुमार शुक्ला द्वारा सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करते हुए शपथ लेने का यह वीडियो इन दिनों वायरल है.

लेकिन इन सबसे बेफिक्र डीजी होमगार्ड सूर्य कुमार शुक्‍ला हर हाल में राम मंदिर को बनाने की कसम खाते और ‘जय श्री राम’ के नारे लगाते नजर आ रहे हैं. इस कार्यक्रम में उनके साथ हिंदू मंच के आजम खान सबको शपथ दिलवाते नजर आ रहे हैं.

डीजी स्‍तर के अधिकारी की इस हरकत से उन पर सांप्रदायिकता को बढ़ावा देने के आरोप लग रहे हैं. सवाल उठ रहा है कि जब सीनियर पदों पर बैठे अधिकारी ही इस तरह का धार्मिक उन्‍माद फैलाएंगे और सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अवहेलना करेंगे तो प्रदेश में शांति व्‍यवस्‍था कैसे दुरुस्त रहेगी.

इस मौके पर बोलते हुए आजम खान ने कहा, “अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए हिन्दुओं को जागरुक होने की जरुरत हैं. उन्होंने कहा कि अगर 100 करोड़ हिन्दुओं के होते हुए भी राम मंदिर का निर्माण नहीं हो रहा है तो यह सोचने की बात है. उन्होंने कहा कि मैं एक भक्त होने के नाते यहां आया हूं. कोर्ट में राम मंदिर का मु्द्दा जाना भी अच्छी बात नहीं है.

आजम खान ने कहा, “राम यूपी के हैं इसलिए यहां के लोगों में उनको लेकर जागरुकता नहीं है. साउथ और गुजरात के हिन्दुओं को जाकर देखें उनके लिए राम की आस्था कितनी है.”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here