Visitors have accessed this post 350 times.

बदायूं
उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले में तांत्रिक ने बच्चे का इलाज करने के नाम पर उसे लोहे की रॉड से जला डाला। परिजनों को पता चलने के बाद उन्होंने तांत्रिक के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी है। मामला दर्ज होने के बाद से तांत्रिक फरार है।

यह घटना बदायूं के फैजगंज थाना क्षेत्र की है। यहां रहने वाला 13 साल का बच्चा लंबे समय से बीमार था। बच्चे के अभिभावकों ने बताया कि काफी इलाज के बाद भी उनका बेटा ठीक नहीं हो पा रहा था। किसी ने उन्हें तांत्रिक महेश पाल के बारे में बताया।

बच्चे पर काली छाया
वे लोग तांत्रिक के पास पहुंचे। यहां तांत्रिक ने दावा किया कि वह उनके बच्चे को ठीक कर देगा। तांत्रिक के विश्वास दिलाने के बाद बच्चे के परिजन उसे लेकर तांत्रिक महेश पाल के घर पहुंचे। उसने बच्चे को देखकर कहा कि उस पर काली छाया है। तांत्रिक ने तंत्र-मंत्र पढ़े और यह कहा कि काला साया बहुत ताकतवर है वह उनके बच्चे को जिंदा नहीं छोड़ेगा।

परिजन घबरा गए। तांत्रिक ने बच्चे को ठीक करने का फिर से दावा किया। उसने आग मंगवाई और मन ही मन कुछ बोलते हुए लोहे की रॉड गर्म करनी शुरू की। यह गर्म रॉड वह बच्चे के शरीर पर दागने लगा। बच्चा दर्द से चीख रहा था। थोड़ी देर में बच्चा बेहोश हो गया।

बच्चे की हालत और बिगड़ी
तांत्रिक ने उन लोगों से कहा कि बच्चा ठीक हो गया है उसे घर ले जाएं, जिसके बाद परिजन उसे घर ले गए। घर आने के बाद बच्चे की हालत और बिगड़ने लगी। बच्चे की मां ने आसपास लोगों को बात बताई तो उन्हें पता चला कि तांत्रिक कई लोगों के साथ ऐसा कर चुका है। उसके इलाज से कोई ठीक नहीं हुआ। बच्चे के परिजनों ने थाने में तांत्रिक के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस ने बताया कि तांत्रिक फरार है और उसकी तलाश की जा रही है।