Visitors have accessed this post 35 times.

मजाक करना और ठहाके मारना सेहत के लिए अच्छा होता है ये तो सब जानते हैं। लेकिन शायद आपको ये नहीं पता होगी कि खुद का मजाक उड़ाना सेहत के लिए ज्यादा अच्छा होता है। खुद पर मजाक बनाने वाले लोगों को गुस्सा कम आता है और वो ज्यादा खुशमिजाज होते हैं।

स्पेन के ‘माइंड, ब्रेन एंड बिहेवियर रिसर्च सेंटर’ के शोधकर्ताओं ने कहा है कि खुद का मजाक उड़ाने वाले चुटकुले मारने से आप ज्यादा खुश महसूस करते हैं। यह ताजा रिसर्च पहले की उस रिसर्च से बिल्कुल अलगे है जिसमें कहा गया था कि खुद का मजाक बनाने से नकारात्मक मनोवैज्ञानिक असर होता है। इस रिसर्च से जुड़े वैज्ञानिक जॉर्ज टोरिस मारिन ने कहा कि हमने इस अध्ययन में देखा कि जन लोगों में खुद का मजाक उड़ाने की आदत होती है उन्में मनोवैज्ञानिक तौर पर सकारात्मक असर होता है। यानि वो ज्यादा खुश रहते हैं और साथ ही वो मिलनसार भी होते हैं।

मजाक का जगह पर पड़ता है असर
हालांकि मारिन का ये भी कहना है कि खुद पर मजाक करने का असर कैसा होगा ये इस बात पर निर्भर करता है कि शख्स कहां रह रहा है। उन्होंने कहा कि हम इस विषय पर और रिसर्च के जरिए ये जानना चाहते हैं कि इस तरह का मजाक इंसान के सांस्कृतिक और सामाजिक पहलुओं से कैसे जुड़ा हुआ है। ऐसा इसलिए जरूरी हैं क्योंकि इंसान का मजाक दो चीजों पर निर्भर करता है। एक कि वो किस संस्कृति या वातावरण से आता है। दूसरा ये कि उसका मजाक कुछ लोगों के लिए हास्य हो सकता है लेकिन वही दूसरों के लिए उपहास भी हो सकता है।

गुस्से क्यों होता है कम
वैज्ञानिकों ने इस अध्ययन के आधार पर कहा है कि खुद पर मजाक करने वाले लोगों का गुस्सा कम नहीं होता है। असल में ऐसे हंसी-मजाक से वो अपने गुस्से को दबाना सीख लेते हैं। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अपने-आप पर कमेंट करना गुस्से के नियंत्रण का कोई तरीका नहीं है, बल्कि ये उसे छिपाने या दबाने का जरिया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here