Visitors have accessed this post 90 times.

इलाहाबाद बैक शाखा गिलौला मे आए दिन भीड़ भीड़ के चलते लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिसकी जानकारी जिले के बैक प्रबन्धन को होने के बावजूद भी व्यवस्था मे कोई सुधार होता नही दिख रहा है। जिसकी बानगी सोमवार को देखने को मिली।

जब पिता पत्नी व गोद मे दो वर्षीय बेटे के साथ खाते से 1500 रूपए निकालने के लिए बैक मे लाइन मे खडा होकरअपने बारी का इंतजार कर रहा था कई बार उसने अपने मजबूरी को स्टाफ से बया भी किया लेकिन बैक स्टाफ का दिल नही पसीजा। डेढ़ घण्टे बाद बैक स्टाफ द्वारा यह कहा गया कि ग्राहक सेवा केन्द्र पर जाकर रूपए निकाल लो निराश होकर मजबूर पिता व माॅ दौड़ती रही कि उसके मासूम का इलाज जल्दी हो सके लेकिन बैक स्टाफ व प्रबन्धक की लापरवही से जरूरतमंद परिजन को उनके रूप्ए नही मिले और गोद मे उसके दो वर्षीय मासूम ने दम तोड़ दिया, माॅ को रोता हुआ
देख लोगो की भारी भीड़ बैंक के बाहर देखती हुई नजर आई।

आपको बता दे की गिलौला कस्बे में स्थित इलाहबाद बैंक में अयोध्या प्रसाद पत्नी पार्वती देवी निवासी भौसावा का रहने वाला है अपने 2 वर्षीय बीमार बच्चे
को इलाज कराने के लिए बैंक में पैसे निकालने के लिए गए थे।

1500 का विड्रॉल भरकर लाइन में घण्टो खड़े रहने के बाद जब बीमार बच्चे के पिता का नम्बर आया तो बैंक कर्मचारियों द्वारा उसे ग्राहक सेवा केंद्र भेज दिया गया।

ग्राहक सेवा केंद्र पर जाने के बावजूद भी नेटवर्क की समस्या के चलते जब उसे पैसे
नही मिले तब वो दोबारा आकर बैंक की लाइन में खड़ा हो गया पर जबतक वह कैश लेने के लिए काउंटर तक पहुंचता तब तक उसके 2 वर्षीय पुत्र ने दम तोड़
दिया।

थाने पर तहरीर देकर पीड़ित पिता ने कार्यवाही की मांग की है अब देखना यह होगा कि योगी सरकार मे ऐसे मामलो पर क्या कार्रवाई की जाएगी।