Visitors have accessed this post 76 times.

पीलीभीत में लोगों के लिए मुसीबत बन चुके बाघ को वन विभाग की टीम ने पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। वन विभाग ने कड़ी मसक्कत के बाद टाइगर को घायल कर दिया। बता दें कि छोटी बहन के साथ गांव के बाहर खेत में शौच करने गई महिला को बाघ ने अपना निवाला बना लिया था। बाघ को देखकर मृतका की छोटी बहन डर गई और भागते हुए गांव वालों की इसकी सूचना दी। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने समूह बनाकर गन्ने के खेत को चारों ओर से घेर लिया। घटना की सूचना मिलते ही माधोटांडा थाना पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। इसके बाद डीएफओ ने टीम के साथ जाकर खेत में शव को देखा और लोगों से जानकारी ली। घटना को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश देखा गया। जिले में बाघ के हमले से यह 23वीं मौत है, जो सूबे में सबसे अधिक है।

माधोटांडा क्षेत्र के गांव चांदूपुर के रहने वाले छेदालाल की बेटी गिरजा होली पर अपने मायके आई थी। सोमवार की सुबह वह अपनी छोटी बहन नीतू के साथ शौच के लिए घर के बाहर गई हुई थी। गांव के करीब दोनों एक गेहूं के खेत के पास पहुंचीं। यहां पहले से ही घात लगाए बैठे एक बाघ ने गिरजा पर झपट्टा मार दिया और गर्दन को दबोच कर गन्ने के खेत में खींच ले गया। यह देखकर नीतू सहम गई और भागकर गांव में पहुंच गई।

नीतू ने जब गांव जाकर इसकी सूचना दी तो काफी संख्या में ग्रामीण खेत में पहुंच गए। शोरगुल कर बाघ को भगाया। ग्रामीणों ने बाघ के चंगुल से महिला का शव छुड़कार वन विभाग को इसकी सूचना दी। बाघ के हमले की सूचना पर माधोटांडा इंस्पेक्टर इंद्र सिंह भी फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए। डीएफओ कैलाश प्रकाश माला आरओ दिलीप श्रीवास्तव के साथ मौके पर जाकर लोगों से जानकारी ली। जिले में बाघ के हमले से यह 23वीं मौत है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here