Visitors have accessed this post 153 times.

सासनी (हाथरस) : अक्षय तृतीया ब्राह्मण शिरोमणी भगवान परशुराम जी की जयंती लॉक डाउन के रहते मानव जीवन रक्षा के लिए घरों में ही हवन यज्ञ कर मनाये। हवन यज्ञ में भी सोशल डिस्टेंस का ध्यान जरूर रखें।

यह बातें पं. प्रशांत दीक्षित ने 25 अप्रैल को अक्षय तृतीया को ब्राम्हण शिरोमणि परशुराम जी मनाए जाने की अपील करते हुए लोगों से कहा कि लॉक डाउन का जो कदम सरकार ने उठाया हैं वह हमारे जीवन को बचाने के लिए ही उठाया हैं हमें राष्टभक्ति के प्रति अपनी भावनाओं को रखते हुए भगवान श्री परशुराम की जंयती पर घरां में ही हवन यज्ञ कर आहूतियां देकर कोरोना वायरस के अंत के लिए त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌ उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृताम्॥ मंत्र का जाप अवश्य करें क्योंकि सत्यम शिवम् सुंदरम। यही तीन शब्द जीवन का मूल हैं। यही तीनाक्षर भगवान शिव को प्रिय हैं। शिव के बिना प्रकृति नहीं। प्रवृत्ति नहीं। जीवन नहीं और मृत्यु भी नहीं। शिव हमारे दैहिक, दैविक और भौतिक शक्ति हैं। शिव आदि और अनंत हैं, शिव हमारा आलोक हैं। शिव हमारा भूमंडल है। शिव प्रकृति स्वरूप हमारा स्तंभ है। जो शिव ही मृत्यु पर विजय प्राप्त करने वाले है। इसलिए सभी को अपने घरों में रहकर ही हवन यज्ञ कर भगवान परशुराम का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाना चाहिए।

इनपुट : आविद हुसैन

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here