closeup of rooibos tea, shallow dof

Visitors have accessed this post 13 times.

यह चाय हल्की ऑक्सीडाइज़ होती है, जिसका रंग हरे और काले के बीच का होता है। जायके में भी यह बाकी चाय से अलग होती है। यह हार्ट प्रॉब्लम्स और कोलेस्ट्रॉल पर काबू कर शरीर के लिए अच्छी एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करती है। यह हड्डियों की बनावट को बेहतर कर दांतों को हेल्दी रखने में भी मदद करती है।

ऊलौंग-टी में कैफीन होती है, जो नसों

के लिए काफी फायदेमंद होती है। इसके अलावा इसमें पॉलीफिनोल कंपाउंड (शरीर में मौजूद एक तरह का एंटीऑक्सीडेंट) होता है, जो मैटाबॉलिज्म से चरबी को कम कर वजन घटाने में मदद करता है।
यह चाय ग्रीन-टी की तरह ज्यादा मात्रा में नहीं ली जा सकती। इसमें मौजूद कैफीन की वजह से इसे दिन में दो बार लेना ही काफी है। दो बार ली गई चाय आपकी सेहत को भी अच्छा बनाए रखेगी। ध्यान रहे कि ऊलौंग की पत्तियों को उतना ही शामिल करें, जितना डब्बे में लिखा गया हो। यह आपको सर्दियों से जुड़ी कई प्रॉब्लम्स से बचाए रखती है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here