Visitors have accessed this post 24 times.

क्यों मनाया जाता है धनतेरस का त्यौहार

ऐसा कहा गया है। धनतेरस के दिन भगवान धनवंतरी समुद्र मंथन से सोने का कलश लेकर उत्पन्न हुए थे, इसलिए इस दिन सोना या फिर बर्तन खरीदने की परंपरा है। धनवंतरी के उत्पन्न होने के दो दिन बाद समुद्र मंथन से लक्ष्मी जी प्रकट हुई थीं, इसलिए दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। कहा जाता है कि धनवंतरी विष्णु भगवान का अंश हैं और वो देवताओं के वैद्य हैं, इसलिए इनकी पूजा करने से स्वास्थ्य लाभ होता है। मान्यता है कि संसार में विज्ञान और चिकित्सा के विस्तार के लिए भगवान विष्णु ने धनवंतरी का अवतार लिया था। इसी लिए धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है।

धनतेरस पर सोना चाँदी खरीदने का महत्व

धनतेरस पर कई तरह की चीजें खरीदी जाती हैं, लोग इस दिन सोना, चांदी, बर्तन, कपड़े इत्यादि खरीदते हैं, क्या आप जानते हैं कि इस दिन सोना क्यों खरीदा जाता है। इसके पीछे भी एक कथा है। कहा जाता है कि हिम नाम का एक राजा था, उसके बेटे को श्राप मिला था कि शादी के चौथे दिन ही उसकी मृत्यु हो जाएगी। जो राजकुमारी हिम के बेटे से प्यार करती थी उसे जब पता चला कि ऐसा है तो उसने शादी तो की लेकिन चौथे दिन पति से जागे रहने को कहा। पति को नींद ना आए इसलिए वो पूरी रात उन्हें कहानियां और गीत सुनाती रही। उसने घर के दरवाजे पर सोना-चांदी और बहुत सारे आभूषण रख दिए। खूब सारे दीए जलाए। जब यमराज सांप के रूप में हिम के बेटे की जान लेने आए तो इतनी चमक-धमक देखकर अंधे हो गए। सांप घर के अंदर प्रवेश नहीं कर पाया और आभूषणों के ऊपर बैठकर कहानी और गीत सुनने लगे। ऐसे ही सुबह हो गई और राजकुमार की मृत्यु की घड़ी खत्म हो गई। यमराज को बिना प्राण लिए ही वापस जाना पड़ा। कहा जाता है कि इस दिन सोना-चांदी खरीदने से अशुभ चीजें और नकारात्मक शक्तियां घर के अंदर नहीं आ पाती है।

धनतेरस के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त

धनतेरस के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त केवल 30 मिनट के लिए है। ऐसे में आपको अपनी पूजा इतने समय में पूर्ण कर लेनी चाहिए। धनतेरस पूजा मुहूर्त शाम को 05 बजकर 28 मिनट से 05 बजकर 59 मिनट तक है। इस दिन ही आपको यमराज के लिए दीपक भी दान करना होता है।

धनतेरस की तिथि

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी का प्रारंभ 12 नवंबर को रात 09 बजकर 30 मिनट पर हो रहा है, जो अगले दिन 13 नवंबर को शाम 05 बजकर 59 मिनट तक है। ऐसे में इस साल धनतेरस 13 नवंबर दिन शुक्रवार को मनाया जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here