Visitors have accessed this post 571 times.

हिंदू पुराण में इस बात का उल्लेख किया गया है कि जब किसी भी व्यक्ति की मृत्यु होने वाली होती है। तो उसे लक्षण पहले से ही दिखने लग जाते हैं। लेकिन मनुष्य की अज्ञानता के कारण वह समझ नही पाता है। शिव पुराण में लिखी गई इस उल्लेख को जब माता पार्वती जी ने शिव जी से पूछती है तो शिव जी कहते हैं प्रिय मैं आपको बताता हूं कि किन संकेतों को देखकर समझ कर मनुष्य जान सकता है कि उसकी मृत्यु कब और किस समय तक हो जाएगी। तब शिवजी कहते हैं जिस मनुष्य को ग्रहों के दर्शन होने पर दिशाओं का ज्ञान ना हो मन में बेचैनी रहे तो उस मनुष्य की मृत्यु 6 माह के भीतर ही हो जाती है
साथ ही जिस व्यक्ति को अचानक से नीली मक्खियां आकर घेर ले तो मनुष्य की मृत्यु एक माह के अंदर हो जाती है
शिव पुराण के अनुसार भगवान शिव ने बताया है जिस व्यक्ति के सर पर गिद्ध कौवा अथवा कबूतर आकर बैठ जाए तो उसकी मृत्यु 1 महीने के भीतर ही हो जाती है
इसी तरह जिस मनुष्य का मुंह आंख कान जीव ठीक से काम ना करें उस व्यक्ति की मृत्यु 6 माह के भीतर हो जाती है
जिस मनुष्य को चंद्रमा के आसपास का गहरा काला या लाल दिखाई दे उस मनुष्य की मृत्यु 15 दिन के भीतर ही हो जाती है
जिस मनुष्य को चंद्रमा अथवा ध्रुवतारा होते हुए भी ना दिखाई दे उसकी मृत्यु 1 महीने के भीतर ही हो जाती है
जिस व्यक्ति का क्फ नाक अधिक बहने लगे तो उस व्यक्ति का जीवन 15 दिन से अधिक नहीं चलता
जिस व्यक्ति का मुंह और कंठ बार-बार सूखने लगे तो उस व्यक्ति की मृत्यु 1 महीने के भीतर ही हो जाती है
जिस व्यक्ति को जल तेल व दर्पण में अपनी झलक ना दिखाई पड़े उस व्यक्ति की मृत्यु 1 महीने के भीतर ही हो जाती है
जिस व्यक्ति का बाया हाथ 1 सप्ताह तक फड़फड़ाता हि रहे तब उस व्यक्ति का जीवन एक माह ही शेष रह जाता है इस सबके अलावा शिवजी यह भी बताते हैं जब कोई मनुष्य मृत्यु के बहुत ही करीब आ जाए और खटिया पकड़ ले और फिर वह अपनों को बार-बार देखने की जिज्ञासा प्रकट करें तब यह समझ जाए उसकी मृत्यु कुछ ही पहर शेष है।

यह भी पढ़े : नई साल से पहले वृंदावन नगरी में चलाया गया स्वच्छता अभियान

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp