Visitors have accessed this post 134 times.

गंगा दशहरा पर्व शुक्रवार को उत्साह के साथ मनाया जा रहा है। सुहाग नगरी में यमुना के अलावा कई नहरों पर स्नान के लिए श्रद्धालु उमड़े। दशहरा पर विविध कार्यक्रम सम्पन्न हो रहे हैं।

दशहरा पर्व पर गंगा स्नान करने के लिए नगर व देहात क्षेत्र के तमाम श्रद्धालु गुरुवार को राजघाट व सोरों के लिए रवाना हो गए थे जहां शुक्रवार को तड़के गंगाजी में स्नान किया। साथ ही गंगा मैया की पूजा अर्चना कर दशहरा पर्व मना रहे हैं। जो लोग गंगा स्नान के लिए किसी कारणवश नहीं जा सके, वे दशहरा पर शहर से करीब चार किलोमीटर दूर दक्षिण में बह रही यमुना में डुबकी लगाने सुबह पहुँचे।

दशहरा पर्व पर स्नान के लिए शुक्रवार को सुबह सैकड़ों श्रद्धालु यमुना की ओर रुख कर गए थे जहां वे स्नान कर शिवजी का अभिषेक पूजन करते नजर आए।

यमुना किनारे शिव मंदिर पर हवन, पूजन प्रसाद वितरण आदि कार्यक्रम सम्पन्न किए जा रहे हैं। जनपद से गुजर रही यमुना पर टूंडला, फिरोजाबाद, शिकोहाबाद के मध्य बने यमुना घाटों पर सैकड़ों श्रद्धालु उमड़े।

दशहरा पर तरबूज और जलेबी की खूब बिक्री हो रही है। जलेबी के लिए हलवाइयों ने गुरुवार को ही अपनी तैयारी शुरु कर दी थी। जगह-जगह तरबूज के फड़ से इनकी बिक्री हो रही है।

सुबह से गूंजने लगा वो काटा का शोर

फिरोजाबाद। दशहरा पर खूब पतगंबाजी हो रही है। बच्चे और युवा आसमान में रंग बिरंगी पतंगें उड़ाते नजर आए। वे आपस में आसमान में उड़तीं पतंगों के पेच लड़ा रहे हैं। दशहरा पर्व को लेकर बच्चों और युवाओं में खासा उत्साह है। गुरुवार को पतंगबाज अपनी दशहरा को लेकर अपनी तैयारी कर लाए थे।

दशहरा पर गंगा स्नान, दान का विशेष महत्व

फिरोजाबाद। गंगा दशहरा के दिन गंगाजी धरती पर अवतरित हुई थीं। इसलिए इसे उत्साह के साथ मनाया जाता है। नगर के ज्योतिषाचार्य मुन्ना लाल शास्त्री कहते हैं कि दशहरा पर्व पर गंगा स्नान का विशेष महत्व है। जो लोग गंगा जी नहीं पहुंच पाते वे यमुना या अन्य नदियों में स्थान कर लेते हैं। यह भी ठीक है। इस रोज शीतलता प्रदान करने वाले पदार्थों का दान करना चाहिए। उन्होंने बताया कि दशहरा पर्व पर शुक्रवार को प्रात: आठ बजे से पूर्वान्ह 11 बजे तक स्नान करना शुभ रहेगा।

दशहरा पर नदी में स्नान करते समय बरतें ये सावधानी

– यमुना जी या अन्य नदी में अंदर तक ना जाएं।

– जिन्हें तैरना नहीं आता वे गहरे पानी में स्नान न करें।

– यमुना जी पर घाट पर स्नान करना उचित होगा।

– लोग अपना और साथ गए परिजनों का ख्याल रखें।

Input samriddhi

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here