Visitors have accessed this post 348 times.

हरिद्वार : तीर्थनगरी हरिद्वार में आयोजित कुंभ मेले में हर तरफ आस्था ही आस्था नजर रही है। सड़कों से लेकर अखाड़ों की छावणियों तक में बाबाओं के दर्शन हो रहे हैं। साधु-संत अपने-अपने तरीके से जप व तप में जुटे हुए हैं। यहां आने वाले नागा साधु अपने पहनावे के कारण लोगों का ध्यान अपनी और आकर्षित कर रहे हैं। तुलसी चौक के किनारे गंगाघाट पर बैठे अजय गिरि उर्फ ​​रुद्रक्ष बाबा को याद ही नहीं वह कब से भक्ति की राह में चल रहे हैं। बस इतना याद है कि भगवान को पाना है और फिर संसार को बचाना है।
उन्होंने बताया कि गुजरात से वह तीर्थनगरी भगवान को प्रसन्न करने के लिए आए हैं। भगवान शंकर की जटा से गंगा निकली है और इसलिए वह गंगा के पास आए हैं। गंगा मां से यही प्रार्थना कर रहे हैं कि वह शिव को प्रसन्न करने में सफल होने का आर्शीवाद दें। अजय गिरी ने 11 हजार रुद्राक्ष धारण किए हैं। जिनका वजन 20 किलो के करीब है।
वहीं घाट पर जप व तप में ध्यानमग्न नागा बाबा दिंगबर राघवगिरि ने अपने सिर पर साढ़े तीन किलो रूद्राक्ष धारण किए हुए बताया है। रुद्राक्ष को शिवलिंग का रूप दिया गया है। जिसमें शिवलिंग के साथ ही भगवान नाग भी बना हुआ है। उनका मानना ​​है कि रुद्राक्ष भक्त और भोले के बीच बड़ी कड़ी है।
इस कड़ी से वह शिव को प्रसन्न कर सनातन धर्म की रक्षा का आह्वान करेंगे। इसके अलावा निर्वाणी अखाड़े के बैरागी संत दयाल दास ने भी अपने गले मे मोतियों की 103 मालाओं पहनी हुई है। इन मालाओं का वजन भी लगभग सातो है। संत दयाल दास ने यह मालाएं बाजार से खरीदकर नहीं पहनी है बल्कि देश के विभिन्न राज्यों के संतों से उन्होंने कहा कि यह माला आशीर्वाद स्वरूप है। उन्होंने बताया कि उनका एक संकल्प है जो 108 माला पूरी होने पर ही पूरा होगा। 108 मालाएं पूरी हो जा रही हैं। वह एक विशेष यज्ञ करेंगे जिसमें बड़ी संख्या में साधु संत शामिल होंगे।

input : sapna sexena

यह भी पढ़े : दुनिया के 5 अनोखे पंछी जिन्हें आपने पहले कभी नहीं देखा होगा

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp