Visitors have accessed this post 36 times.

लोगों की रूह कांप जाए इतना भयानक हमला आवारा कुत्तों ने एक सात साल की मासूम बच्ची के ऊपर किया गया। झुंड में इकट्ठा होकर बैठे आवारा कुत्ते सुनसान सड़क पर जा रही रेशमा को अपना निवाला बनाने के लिए उस पर झपट पड़े।

अलीगढ़ जिले को स्मार्ट सिटी का दर्जा दिलाने के लिए नगर निगम अब तक करोड़ों रुपये से ज्यादा खर्च कर चुका है। लेकिन इस सबके बावजूद भी शहर के लोगों को आवारा जानवरों से छुटकारा नहीं मिल रहा है। अलीगढ़ के जीवनगढ़ से हैरान करने वाली एक घटना सामने आई है। जहा एक सात साल की बच्ची रेशमा पर आवारा कुत्तों का झुंड टूट पड़ा। बच्ची बुरी तरह से जख्मी हो गई। रेशमा दुकान से सामान लेने जा रही थी।उसी दौरान कुत्तों के झुंड ने उस पर हमला कर दिया।यह घटना सीसीटीवी में कैद हो गई।सीसीटीवी में दिख रहा है कि बच्ची खुद को बचाने के लिए भागी लेकिन कुत्तों ने उसे जमीन पर गिरा लिया और घसीटने लगे। इस दौरान कुत्तों की लगातार संख्या बढ़ती रही है।

अलीगढ सात साल की बच्ची पर आवारा कुत्तों ने हमला कर दिया।बेहरेमी से जमीन पर गिरा बच्ची को नोंचत रहा कुत्तों का झुंड। सात साल की रेशमा पर आवारा कुत्तों ने देखते ही देखते एक के बाद एक जोरदार प्रहार बोल दिया ।आवारा कुत्तों के इस झुंड ने मासूम बच्ची को जमीन पर गिरा लिया और घसीट-घसीटकर कर उसे बुरी तरह से नोंच डाला। बच्ची को कुत्तों के चुंगल में घिरा देख लोगों ने दौड़कर कुत्तों के चुंगल से बच्ची को बचाया गया।

थाना सिविल लाइन इलाके के केला नगर की पत्थर वाली गली में एक सात की मासूम रेशमा पर आधा दर्जन से ज्यादा कुत्तों के एक झुंड ने हमला बोल दिया। जहा जीवनगढ़ के रहने वाले कासिम की सात साल की बेटी रेशमा अपने घर से निकल कर दुकान पर सामान लेने के लिए जा रही थी। उसी दौरान कुत्तों के झुंड ने रेशमा पर हमला कर दिया।कुत्तों के हमले में बच्ची बुरी तरह से जख्मी हो गई। बच्ची की आवाज सुनकर आसपास के लोगों ने दौड़कर कुत्तों के चुंगल से उसे बचाया गया। कुत्तों के हमले में घायल हुई रेशमा को उपचार के लिए जिला मलखान सिंह अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे उपचार करने के बाद रेशमा को उसके घर भेज दिया ।

दरअसल सिविल लाइन इलाके के केला नगर पत्थर वाली गली में घूमने वाले एक दर्जन के करीब आवारा कुत्तों ने एक सात साल की मासूम बच्ची रेशमा के ऊपर इस कुत्तों के एक झुंड ने उस वक्त हमला बोल दिया जब गली सुनसान पड़ी हुई थी। तो वही मासूम बच्ची अपनी मस्ती में मग्न होकर अपने घर से दुकान पर कुछ सामान लेने के लिए जब जा रही थी। उसी दौरान आवारा कुत्तों के इस झुंड ने बच्ची के ऊपर जोरदार हमला बोल दिया। आवारा कुत्तों ने बच्ची के ऊपर इतना जबरदस्त हमला बोला गया की इन कुत्तों के झुंड ने उस बच्ची को संभलने तक का मौका नही दिया और उसको जमीन पर गिरा कर चारो तरफ से घेरकर बच्ची को अपने नुकीले दांतो से बुरी तरह से जमीन पर घसीट-घसीट कर नोंच डाला और कुत्ते बच्ची पर लगातार हमला करते रहे।

मासूम बच्ची अपने आप को इन कुत्तों के बीच घिरी हुई बचाने के लिए रहम की भीख मांगते हुए गिड़गिड़ा रही थी लेकिन इन बेजुबान जालिम आवारा कुत्तों को इस मासूम पर जरा भी तरस नही आया। जहा बच्ची के पहने हुए कपड़े भी अपने नुकीले दांतो से कुत्तों ने नोंच नोंच कर फाड़ डाले।किसी तरह वहा गुजर रहे लोगो ने बच्ची को इन कुत्तों के बीच घिरा देखा तब लोगों ने दौड़कर इन आवारा कुत्तों के चुंगल से बचाते हुए उन कुत्तों को मौके से भगाया गया।

बच्ची रेशम के ऊपर हो रहा आवारा कुत्तों का हमला इलाके में लगे एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। जिस सीसीटीवी फुटेज में आवारा कुत्तों का एक झुंड मासूम बच्ची को बेहरेमी के साथ जमीन पर गिरा कर उसको अपने नुकीले दांतो से बुरी तरह से नोंच रहे है।

तो वही इलाके के वार्ड नंबर 57 के पार्षद भी इन आवारा कुत्तों को पकड़वाने के लिए उनके द्वारा कई बार नगर निगम के नगर आयुक्त से विनती कर चुके हैं। लेकिन स्मार्ट सिटी होने के बावजूद भी नगर निगम की तरफ से कोई सुनवाई नहीं हुई। इससे पहले भी इन आवारा कुत्तों ने एक बच्चे पर हमला कर दिया था। जिस हमले वह बच्चा बुरी तरह से घायल हुआ था।

सहायक नगर आयुक्त राजबहादुर ने जानकारी देते हुए बताया केला नगर पत्थर वाली गली में एक बच्ची के साथ आवारा कुत्तों द्वारा हमला करने का प्रकरण संज्ञान में आया है इस इलाके में नगर निगम के द्वारा एक विशेष अभियान आवारा कुत्तों को पकड़ने के लिए चलाया जाता है।लेकिन खासतौर पर इस इलाके में उस वक्त दिक्कतें आती है जब इस इलाके में नगर निगम की टीम आवारा कुत्तों को पकड़ने के लिए जाती है। तो वहा पर रहने वाले लोगों को इन आवारा कुत्तों से सिंपैथी और लगाव रहता है और लोग इन कुत्तों का अपना बताते है। जिसके चलते कई-कई बार नगर निगम की टीम के लोंगो का इसका वहां के रहने वाले लोगों से इसका विरोध भी झेलना पड़ता है। लेकिन इस सब के बावजूद भी इन आवारा कुत्तों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान चलाया जाता है।इस दौरान जो पड़ोसी या दुकानदार लोग होते है ये लोग इन आवारा कुत्तों को अपना पालतू कुत्ता बताते है।जहा नगर निगम के सहायक नगर आयुक्त ने इस घटना के बाद इलाके के लोगो से अपील की है कि गली-मोहल्ले के अंदर घूमने वाले इन आवारा कुत्तों को पकड़वाने में नगर निगम की टीम का सहयोग जरूर करें।

INPUT – Mo Sahenwaj

sasni new wave

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA ऐप

http://is.gd/ApbsnE