Visitors have accessed this post 139 times.

कोरोना महामारी के बीच देश से तमाम तरह की तश्वीरें सामने आरही है कुछ तश्वीरों को देखकर गर्व महसूस होता है ,तो कुछ तश्वीरों को देखकर मन विचलित होजाता है,
ऐसी ही एक तश्वीर अलीगढ़ रेलवे स्टेशन पर देखने को मिली जिसने
भी देखा रेलवे प्रसाशन पर सवालिया निशान खड़े करदिये,
तश्वीरों में एक बेटे को अपने पिता को घर तक लेजाने के लिए रेलवे स्टेशन पर घण्टों इंतजार करना पड़ा रेलवे स्टेशन पर मौजूद पुलिसकर्मी सहित अन्य आलाधिकारियों ने कोरोना नियमो का हवाला देकर अपनी अपनी जिम्मेदारी से मुंह फेर लिया,

दरअसल पूरा मामला अलीगढ़ जिले के जंक्शन स्टेशन का है जहां महिला सहित 4 लोग देहरादून से फतेहपुर जारहे थे कि रास्ते मे अचानक परिवार के एक व्यक्ति की लिंक एक्सप्रेस में ही मौत हो गई ,आनन फानन में लिंक एक्सप्रेस से शव को अलीगढ़ उतारा गया,देर रात 10 बजे पूरा परिवार चीख चीखकर अपने परिजन को एम्बुलेंस मुहैया कराने की भीख मांगता रहा लेकिन रेलवे स्टेशन पर मौजूद पुलिसकर्मी और जिम्मेदार अधिकारी कोरोनो नियमों का पाठ पीड़ित परिवार को पढ़ाते रहे किसी के भी द्वारा म्रतक परिवार की मदद के लिए आगे हाथ नहीं बढ़ाया ,स्टेशन पर खड़े खाकी के नुमाइंदे तमाशबीन बने रहे पीड़ित ,वही म्रतक के बेटे शुभाष के द्वारा रोरोकर अलीगढ़ रेलवे स्टेशन के जिम्मेदारों की कार्यशैली को लेकर अपनी आप बीती बताई पीड़ित के द्वारा बताया गया वह और उसके परिजन देर रात खाना खाकर ट्रेन में सोरहे थे रात में जागकर देखा तो पापा बोल नही रहे थे अचानक किसी के द्वारा गोली दी गई ,लेकिन कोई फायदा नही हुआ,उनके पिता के शव को अलीगढ़ उतार दिया गया,
देर रात में कई बार अधिकारियों के ऑफिस में जाकर एम्बुलेंस की गुहार लगाई लेकिन किसी ने नही सुनी उल्टा शव के पास बैठने के लिए फटकार लगा दी गई सुभाष का कहना था,वो अपने पिता को ट्रेन से ही घर लेजाता उसे उतारा ही क्यों था कम से कम घर तो पहुच जाता यहां अधिकारियो से मिन्नतों के बाद भी कोई सुनने को तैयार नही है घण्टों बीत जाने के बाद भी एम्बुलेंस तक मुहैया नही कराई गई जिससे अपने पिता को घर लेजा सके आखिर जिम्मेदार लोग अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए आगे क्यों नही आये यह एक बड़ा सवाल है,पूरे मामले पर जीआरपी प्रभारी यशपाल सिंह के द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया शिवलाल नाम के एक यात्री जो देहरादून से फतेहपुर के लिए यात्रा पर जारहे थे कंट्रोल रूम पर बुलन्दशहर से सूचना मिली एक व्यक्ति की ट्रेन में हालत खराब हो गई है डॉक्टरों के द्वारा उनको चैक किया गया तो पता चला उनको सांस लेने में दिक्कत है उनको मेडिसन वगैरहा दी गई लेकिन उन्होंने दम तोड़ दिया,अलीगढ़ जंक्शन पर उनके शव को उतारकर डॉक्टरों की टीम के द्वारा चैकअप किया तो वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए पंचनामा भरते हुए कोविड नियमों के साथ एम्बुलेंस को बुलाकर शव को परिजनों को सौंप दिया गया |

INPUT – मोहम्मद शाहनवाज

sasni new wave

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA ऐप

http://is.gd/ApbsnE