Visitors have accessed this post 49 times.

अलीगढ़ कोविड-19 महामारी से जिला स्तर प्रशासन से लेकर उत्तर प्रदेश शासन तक हिल गया है मगर उत्तर प्रदेश शासन के लाख दावों की पोल खोलता पंडित दीनदयाल हॉस्पिटल में तामीर दार ने लापरवाही का घोर आरोप लगाया है तामीर दार पीयूष पुत्र दुष्यंत निवासी शाहगढ़ थाना अकराबाद ने आरोप लगाया है मेरे पिता दुष्यंत 2 दिन पूर्व सांस लेने की दिक्कत की वजह से दीनदयाल हॉस्पिटल में भर्ती किया ऑक्सीजन 63 लेवल पर था हॉस्पिटल में भर्ती करने से पहले ही ऑक्सीजन लेवल 91 हो गया था बिगर जांच के कोविड-19 वार्ड में भर्ती किया मगर यहां पर कोई ट्रीटमेंट नहीं दिया गया अगर दवा देने कोई भी स्टाफ का आदमी आता है तो दवा फेंक कर चला जाता है ना ही दवा का कैसे प्रयोग किया जाएगा इसके बाद बारे में कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया और जब तामीर दार इस लापरवाही की हॉस्पिटल स्टाफ से कहता है तो उसके साथ बदतमीजी की जाती है मरीज को पेशाब और लैट्रिन लगने पर कोई उनकी सुनने वाला नहीं है यहां घोर लापरवाही हॉस्पिटल स्टाफ की देखी जा रही है पूर्व में भी कई मामले दीनदयाल हॉस्पिटल के सामने आए कोई अपनी मां की बॉडी लेने के लिए 4 दिन चक्कर लगाता रहा तो एक बीमार की पुत्री से स्टाफ देखरेख के लिए ₹3000 की मांग की थी ऑडियो वायरल होने के बाद महिला स्टाफ को बाद में जेल भेज दिया मगर फिर भी यहां पर हॉस्पिटल स्टाफ सुधरने का नाम नहीं ले रहा शासन-प्रशासन भी लाख दावे के बाद भी पंडित दीनदयाल हॉस्पिटल की घोर लापरवाही की पोल खोलता काफी है शासन प्रशासन ऐसे हॉस्पिटलों की ओर ध्यान दें जो मरीजों को लापरवाही को ध्यान में रखते हुए सुरक्षित तरीके से स्वस्थ किया जा सके |

INPUT – मोहम्मद शाहनवाज

sasni new wave

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA ऐप

http://is.gd/ApbsnE