Visitors have accessed this post 30 times.

अब पोलियो ग्रस्त लोग भी जी सकेगें आसान जिंदगी पोलियो करेक्टिव सर्जरी से उन्हे ठीक किया जा सकता है भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार ने ऐसे दिव्यांगो की करेक्टिव सर्जरी कराकर उनको ठीक करने का निर्णय लिया है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत जनपद में विकलांग बच्चों की सर्जरी कर उनके विकलांगता को दूर किया जायेगा। सर्जरी का उद्देश्य दिव्यांग जनों के अंग विकृतियों को सुधार कर उन्हे स्वस्थ्य बनाना है।

उक्त जानकारी कलेक्ट्रेट सभागार में पोलियो करेक्टिव सर्जरी कार्यक्रम के क्रियान्वय के लिए बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी दीपक मीणा ने दिया है। उन्होने बताया कि पोलियों से प्रभावित होने वाले बच्चों के पैरों में मांसपेशियों पर कुप्रभाव के कारण के कारण अधिकतर पतले व टेड़े हो जाते हैं। कुठ बच्चों में पैरो की हड्डियों पर भी प्रभाव पड़ता है जिस कारण प्रभावित पैर सामान्य पैर की अपेक्षा सिकुड़ जाता है पोलियो की प्रक्रिया के कारण मांसपेसियों में खिंचाव और सिकुड़न के कारण बच्चा धीरे-धीरे पैर को आराम की स्थिति रखने की चेष्टा के कारण उसे अपनी तरह से उठाकर चलने लगताहै। जिससे कुछ समय बाद मांसपेशियों व हड्डियों में अकड़न व कड़ापन आने पर टेड़े-मेढ़े और छोटे भी हो जाते हैं जो उसे चलने में विकलांग बना देते हैं। इस प्रकार टेड़े और छोटे हुए पैरों को पुनः ठीक करने के प्रयास को करेक्टिव सर्जरी कहते हैं।

जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक एवं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया है कि वे आंगनवाड़ी कार्यकत्रियों एवं शिक्षकों के माध्यम से अध्ययनरत एवं गैर अध्ययनरत चिन्हित दिव्यांग जनों की सूची 07 दिन के अन्दर जिला विकलांग जन विकास अधिकारी को अनिवार्य रूप से उपलब्ध करा दें ताकि उन्हे चिकित्सीय आकलन एवं परीक्षण हेतु प्रस्तावित विशेष शिविर में उनके अभिभावकों के साथ बुलाया जा सके।

जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी गण एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी अपने अधीनस्थ अधिकारियों/कर्मचारियों के माध्यम से व्यापक प्रचार प्रसार कर लोगों को इसके बारे में बतावें ताकि जनपद में कोई भी दिव्यांग बच्चा या 24 वर्ष तक कोई भी बालिका या बालक इस निःशुल्क सर्जरी के सुविधा से वंचित न रह जाये।

इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक अनूप कुमार, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी दीपिका चतुर्वेदी, जिला विकलांग जन विकास अधिकारी मोहन त्रिपाठी सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

tv30 रिपोर्ट प्रदीप गुप्ता/श्रावस्ती

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here