Visitors have accessed this post 49 times.

अलीगढ़ के थाना क्वार्सी इलाके के नई आबादी इस्लाम नगर में सैकड़ों परिवार पलायन करने को मजबूर हैं। क्योंकि वर्षो से ये नगर मूलभूत सुविधाओं से वंचित है। जिससे परेशान लोगों ने अपने अपने दरवाजे पर “यह मकान बिकाऊ हैं” के स्लोगन लिख दिए हैं। यहाँ की सड़कें तो किसी पोखर से कम नहीं हैं। तरह-तरह की बीमारी जन्म ले रही हैं। बच्चे बीमार हो रहे हैं। एंबुलेंस आने तक को रास्ता नहीं है। चारों तरफ गंदगी का अंबार है। जबकि इस्लाम नगर,, नगर निगम की सीमा में हैं और वार्ड नंबर 78 के अंतर्गत आता हैं। यहाँ स्थानीय दर्जनों महिलाओं व पुरुषों ने परेशान होकर जिला अधिकारी कार्यालय का रुख किया और वहाँ पहुँच कर जमकर हंगामा काटा।

स्थानीय लोगों का कहना है कि पिछले 25 वर्षों से इस इलाके में रह रहे हैं। लेकिन विकास के नाम पर कुछ भी नहीं किया जा रहा है। सड़कें और पोखर एक जैसी नजर आती हैं। बच्चे और परिवार के लोग आए दिन बीमार पड़ जाते हैं। जिसके चलते मकान बेचने को मजबूर हैं और घरों पर “यह मकान बिकाऊ है”, लिखना पड़ रहा है। प्रदर्शनकारी महिला ने आरोप लगाया कि पड़ोस की कॉलोनी रामनगर में पक्की सड़कें तोड़कर बनाई जा रही हैं। लेकिन इस्लाम नगर की कच्ची और जलभराव वाली सड़कों को देखने वाला कोई नहीं है। आए दिन बस नक्शा पास होने की बात कहकर दिलासा दे दिया जाता है।इतना ही नहीं अलीगढ़ शहर में स्मार्ट सिटी के अंतर्गत करोड़ों रुपए खर्च किए गए हैं।

 

नगर आयुक्त गौरव राठी में बताया कि इस्लाम नगर के लोगों द्वारा स्थानीय शिकायत दर्ज कराई है। जिसमें बताया गया है कि यह अविकसित कॉलोनी है। जहां कभी नक्शा पास नहीं कराया गया है। जिसके चलते सीवरेज, ड्रेनेज व सड़कों का विकास नहीं हो सका है। यह समस्या काफी सालों से चली आ रही है। समस्या काफी जटिल है। जिसको ध्यान में रखते हुए फाइल तैयार कराकर एस्टीमेट रेडी हो चुका है। अगले सदन की मीटिंग में इस्लाम नगर की फाइल को रखा जाएगा। एस्टीमेट का बजट अधिक होने के कारण, उसे एक बार में ना पूरा करा कर किस्तों में महत्वपूर्ण-महत्वपूर्ण कार्य पूर्ण कराए जाएंगे।

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE