Visitors have accessed this post 20 times.

ख़बर यूपी के जिला गोंडा से है जहाँ कोरोना की दूसरी लहर के कहर ने जमकर तबाही मचाई थी समशान में शव को जलाने के लिए लंबी -लंबी कतारें लगी थी ऑक्सीजन के अभाव में क्या बूढे क्या जवान कोरोना के काल के गाल में समा गए थे कई ऐसे परिवार थे जिसके घर मे करने कमाने वाले जिम्मेदार भी कोरोना की चपेट में आने से मृत्यु हुई है यूपी सरकार ने ऐसे परिवार के लिए अनगिनत रोजगार लेकर आई लेकिन जिले में बैठें जिम्मेदार भ्रस्ट अधिकारी के कारण हर दिन लोग दर दर की ठोकरे खा रहे है ताजा मामला झांझरी ब्लॉक के अंतगर्त पूरे शिवा बख्तावर का है जहाँ 4 महीने पहले कोरोना से मृत्यु हो जाने के कारण बेसहारा महिला अपने तीन बच्चो का पालन पोषण करना किसी लोहे के चने की चबाने जैसा हो रहा है सरकार कि योजना पंचायत सहायक का आवेदन लेकर सिकरेट्री, व जिम्मेदार प्रतिनिधि के यहाँ चक्कर काट रही है लेकिन सिकरेट्री की रिश्वत की भूख बड़ी होने के कारण पीड़िता महिला सरकार की योजना से पूरी तरह से वांछित है पीड़िता महिला का आरोप है सिकरेट्री मोटी रकम मांग रहे है और मेरे पास इतना पैसा है नही की मैं उन्हें दे सकू सबसे बड़ा सवाल खड़ा होता है आखिरकार ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों पर नकेल क्यो नही कसा जा रहा है जिस तरह से सरकार की योजना का लाभ लोगो को पहुचाने के बजाए पीड़िता से ही काम के पैसे माँगे जा रहे है ।