Visitors have accessed this post 18 times.

जल निगम की 1300 भर्तियों में धांधली के मामले में सोमवार को आजम खां एसआईटी के सामने पेश हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार कुछ करे या ना करे, कम से कम चोरों की फेहरिस्त में मेरा नाम तो आ गया। इतना तो सरकार अपमानित कर चुकी है,  इससे ज्यादा अपमान क्या करेंगे।

एसआईटी ने पूर्व नगर विकास सचिव एसपी सिंह और ओएसडी आफाक से पूछताछ के बाद 16 जनवरी को नोटिस जारी कर आजम खां को 22 जनवरी को एसआईटी के समक्ष हाजिर होने के लिए कहा था।

सूत्रों के मुताबिक आज आजम खां और पूर्व नगर विकास सचिव एसपी सिंह को आमने-सामने बैठकार पूछताछ की जाएगी।

बता दें कि सपा सरकार में विधानसभा चुनाव के ठीक पहले जल निगम प्रबंधन द्वारा आनन-फानन में एई, जेई, आशुलिपिक व नैतिक लिपिक के कुल 1300 पदों पर भर्तियां की गई थीं।  कुछ अभ्यर्थियों ने भर्तियों में धांधली को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

हाईकोर्ट के निर्देश पर निगम के ही अधीक्षण अभियंता स्तर के एक अधिकारी से जांच कराई गई थी, जिसमें भर्ती प्रक्रिया में धाधंली की पुष्टि हुई थी। इसके बाद नई सरकार ने भी इस मामले की जांच एसआईटी को सौंप दी थी।

उस समय सरकार के कद्दावर मंत्री मोहम्मद आजम खां नगर विकास मंत्री होने के साथ ही जल निगम के अध्यक्ष पद पर भी काबिज थे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here