Visitors have accessed this post 17 times.

अलीगढ़ : दंगल फिल्म का डायलॉग हमारी छोरी किसी छोरों से कम थोड़ी है यह डायलॉग आज की कुश्ती पर सही साबित बैठा है जहां एक ओर महिलाएं हवाई जहाज एयरप्लेन रेलगाड़ी सहित अन्य क्षेत्रों में नाम रोशन कर रही है तो वही खेलों के प्रति भी महिलाएं कम आकर्षित नहीं है खेलों में भी महिलाओं के द्वारा देश का प्रतिनिधित्व करते हुए देश को सर्वोच्च स्थान हासिल कराया है ठीक उसी क्रम में आज भी महिलाओं के द्वारा कुश्ती दंगल में उतर कर अपने हुनर का एहसास कराया तो तालियों की गड़गड़ाहट से पूरा खेल मैदान गूंज उठा काफी लंबे समय से सामाजिक हित में कार्य कर रही रोटी बैंक के द्वारा कुश्ती दंगल का आयोजन किया गया जिससे समाज में खेलों के विलुप्त होने की प्रक्रिया को समाप्त किया जासके, और कुश्ती दंगल के हुनर को जीवित रखा जा सके इसको लेकर रोटी बैंक के द्वारा तमाम तरह की मुहिम छेड़ी जा रही है उसी क्रम में आज भी काफी वर्षों से चले आ रहे कुश्ती दंगल का आयोजन आयोजित किया गया जिसमें कार्यक्रम की कमेटी व दर्शकों में काफी उत्साह देखने को मिला दरअसल अलीगढ़ के तहसील इगलास के गांव साथिनी मे रोटी बैंक मुरलीवाला की तरफ से कुश्ती दंगल का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें उत्तर प्रदेश के एक दर्जन से ज्यादा जिलों के पहलवानों के द्वारा दंगल में शिरकत की गई खास बात ये रही , पुरुषों के अलावा महिलाओं के द्वारा भी दंगल में उतरकर अपने हुनर का अहसास कराया तो सभी दर्शक बिना ताली बजाए रह नही पाए, वही दूर दराज से आए पहलवानों के द्वारा मिट्टी पर अपना हुनर दिखाया पहलवानों के हुनर को देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा कुश्ती दंगल का शुभारंभ अतिथि विक्रम सिंह हिंडोल व प्रधान संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉक्टर लोकेश शर्मा , व कमेटी अध्यक्ष शिवकुमार सोनी ने पहलवालों के हाथ मिलाकर किया डॉक्टर लोकेश शर्मा ने कहा कि कुश्ती ब्रज की धरोहर है। सभी अतिथियों का स्म्रति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया ,आखिरी कुश्ती हरिओम पहलवान तिरवाया व शिब्बो पहलवान बसेला के मध्य 21000 रुपये की हुई,कुश्ती बराबर पर छूटी और कमेटी द्वारा पहलवानों को बराबर इनाम देकर सम्मानित किया गया

Za Khan
za khan

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास 

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave