Visitors have accessed this post 19 times.

रायबरेली : भाजपा सरकार उत्तर प्रदेश की सत्ता संभालते ही सबका साथ सबका विकास और नारी सशक्तिकरण सहित तमाम नियम कानून महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए लेकिन हालत यह हो गई है कि ना तो महिलाओं को सुरक्षा मिल रही है और ना ही महिलाओं के साथ उचित न्याय किया जा रहा है। क्योंकि सरेनी थाने में तैनात एक दबंग होमगार्ड का हाल यह है कि वह एक महिला को दो बार पिट चुका है और दोनों ही मामलों में पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर उस पर लीपापोती का काम कर डाला, क्योंकि मामला खुद उसके विभाग से जुड़े हुए कर्मचारी का बताया जा रहा है
बताते हैं कि यह होमगार्ड खुद सरेनी थाने में अपने खिलाफ होने वाली हर शिकायत को अपने ही स्तर से निपटा लेता है जिसके कारण महिला को न्याय मिलने की उम्मीद ना के बराबर ही दिखाई देती है, नहीं तो क्या कारण है कि एक महिला लगातार दो बार पीटी जा चुकी है और थाने की पुलिस उस पर कार्यवाही करने के नाम से बहानेबाजी में जुट जाती है। प्रदेश की योगी सरकार कहती है कि सबका साथ सबका विकास होगा और सब को न्याय मिलेगा। खुद मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश ने अपराधियों को जेल जाने या प्रदेश छोड़ देने की सलाह देते हैं यहां तक की अपराधियों की संपत्ति पर बुलडोजर चलवा चुके हैं लेकिन सरेनी पुलिस के लिए शायद छोटे अपराधी के द्वारा किए गए अपराध दिखाई ही नहीं देते हैं।
बताते चले कि मामला रायबरेली जनपद के सरेनी थाना क्षेत्र के कतिकहा गांव का है। जहां पर सरेनी कोतवाली में तैनात एक होमगार्ड शिव शंकर व उनके परिजन चंदर, इंदरजीत, ललिता व शकुंतला का आतंक इस कदर फैला हुआ है कि एक महिला को 2 बार पीट चुके है और महिला के अनुसार अभी तक कोई भी कार्यवाही नहीं हुई है। बताते है कि कल भी उस महिला को होमगार्ड और उसके परिजनों ने फिर जमकर मारा पीटा।जिससे उसके सर सहित पूरे बदन में चोट के निशान बने हुए है।
आपको बता दे कि बबिता पत्नी शिव कुमार निवासी कतिकहा थाना सरेनी रायबरेली को आपसी विवाद के कारण गांव के ही दबंग होमगार्ड शिवशंकर व उनके परिजन चंदर, इंद्रजीत, ललिता और शकुंतला सहित 5 लोगो ने जमकर पीटा। इससे पूर्व भी दबंग होमगार्ड की शह पर उसके दामाद ने महिला को पीटा था। जिसमें उसका हाथ भी टूट गया था लेकिन सरेनी पुलिस की कोई कार्यवाही ना होने के कारण दबंग होमगार्ड के हौसलों से एक बार फिर उसके सहयोगियों ने अकेली महिला को लाठी-डंडों से जमकर मारा पीटा। जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने भी उसकी हालत गंभीर बताई है। कोतवाल सरेनी के अनुसार मामले में कार्रवाई अवश्य होगी । लेकिन यह कार्रवाई कब होगी इस पर कोई भी उचित जवाब नहीं मिल पाया। तो क्या इसी तरह महिलाओं की सुरक्षा का दावा सरकार करती रहेगी और महिलाएं सड़कों पर पीटी जाती रहेगी और महिला सशक्तिकरण का प्रचार प्रचार किया जाता रहेगा है। किसी भी अपराध के बाद अपराधी को पुलिस का खौफ होता है। लेकिन सरेनी थाने की कहानी कुछ अलग ही दिखाई देती है ।जहां पर अपराधी अपराध करने के बाद वह भी तब जब वह खुलेआम एक महिला को गाली गलौज, मारपीट और जान से मारने की धमकी देकर आता है और उसके खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज होने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं होती है। तो क्या यह समझा जाए कि सरेनी थाना क्षेत्र में आज भी वही हाल है जो वर्षों पुराना सिस्टम चलता था कि जिसकी लाठी उसकी भैंस। कहने को तो सरेनी कोतवाल की गिनती तेजतर्रार पुलिसकर्मियों में होती है। लेकिन एक होमगार्ड के आगे उनकी भी चल नहीं पा रही है। महिलाओं के लिए प्रदेश सरकार चाहे जितने भी सख्त नियम कानून बना ले लेकिन जब तक खाकी वर्दी की देश में छिपे भेड़िये घूमते रहेंगे महिलाओं को न्याय मिलना असंभव है।
यहां यह भी बताते चलें कि इससे पूर्व हुई मारपीट में महिला का हाथ टूट गया था। जिसकी रिपोर्ट काफी जद्दोजहद के बाद थाने में दर्ज हुई थी और इस घटना के अभी साल भर भी नहीं बीते कि उसी दबंग चौकीदार ने फिर उस महिला को पीटकर अस्पताल भिजवा दिया। थाने की पुलिस कहती है कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है कार्रवाई की जाएगी लेकिन कार्यवाही के नाम पर यदि पहले हुई मारपीट में निष्पक्ष प्रक्रिया अपनाई जाती तो आज वह महिला सकुशल अपने घर परिवार में रहती। अब आगे देखना यह है कि पुलिस इस मामले में कितनी निष्पक्ष कार्यवाही करती है या यह मामला भी पहले वाले मामले की तरह ठंडे बस्ते में डालकर पुलिस अपने मामले से छुटकारा पा लेगी। क्योंकि बात वहीं पर आकर रुक जाती है कि मामला थाने से जुड़े होमगार्ड का है और होमगार्ड पर कार्यवाही करने पर जिले की पुलिस दहशत में दिखाई देती है।

क्या कहते सरेनी कोतवाल

इस मामले पर जब फोन पर न्याय प्रिय सरेनी कोतवाल अनिल सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि कतिकहा गांव में मारपीट हुई है और महिला जिला अस्पताल रेफर कर दी गई है। मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर कार्यवाही अवश्य की जायेगी।

क्या कहते जिला अस्पताल के डॉ0 संतोष सिंह

इस मामले पर डॉ0 सन्तोष सिंह ने बताया कि सरेनी थाना क्षेत्र में मारपीट में बबिता नामक महिला सीएससी से रेफर होकर गम्भीर अवस्था में आई है। महिला के सर पर गम्भीर चोट आई है, बाएं हाथ और दाहिने हाथ मे काफी चोट है। महिला को मारा गया है, मारने की वजह से ही गम्भीर चोटे आई है। बाकी उसके पूरे शरीर मे बहुत ज्यादा दर्द है। महिला सीरियस और उसके हेडइंजुरी है। इसलिये भर्ती करके महिला का इलाज शुरू किया गया है।

Ravindra singh copy

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave