Visitors have accessed this post 22 times.

अलीगढ़ : अलीगढ़ में बिजली विभाग में जूनियर इंजीनियर विपरीत परिस्थितियों में काम कर रहे हैं. जिले में 110 जूनियर इंजीनियर  की जरूरत है. लेकिन महज 55 ही काम कर रहे हैं. वही कंप्यूटर व लैपटाप उपलब्ध न होने के कारण ऑनलाइन काम नहीं हो पा रहे हैं. इसके साथ ही विभिन्न संवर्गों में कर्मियों की कमी के कारण अन्य कर्मचारियों का उत्पीड़न किया जा रहा है. इसके बाद भी विद्युत कर्मचारी दिन-रात एक कर के बेहतर विद्युत आपूर्ति देने का प्रयास कर रहा है. लेकिन ऊर्जा प्रबंधक हमारी मांगों को लेकर सकारात्मक नहीं है. जिसको लेकर के अब जेई संगठन काम बंद हड़ताल करने जा रहा हैं. जेई संगठन अपने सीयूजी नंबर बंद करने जा रहा है. जिससे आंदोलन को धार दी जा सकें. काम बंद हड़ताल पर जाने से विद्युत व्यवस्था चरमरा जाएगी .राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर लगातार 5 दिन से चरणबद्ध तरीके से अपनी मांगों को लेकर अनशन कर रहे हैं. लेकिन उनकी मांगों पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है. इतना ही नहीं लखनऊ में शक्ति भवन पर भी जूनियर इंजीनियर अनशन और प्रदर्शन कर चुके हैं.  अब जूनियर इंजीनियर अपने सीयूजी नंबर बंद कर आर पार की लड़ाई लड़ने जा रहे हैं.  अलीगढ़ में जेई संगठन के जिलाअध्यक्ष प्रवीन कुमार शाक्य ने बताया कि  बिजली विभाग में संसाधनों की कमी है और मैन पावर भी नहीं हैय आज भी ग्रामीण क्षेत्र में 75  बिजली घर है. लेकिन महज 35 जेई काम कर रहे हैं. जिससे वर्क लोड ज्यादा है .इस दौरान कंप्यूटर और मोबाइल पर लगातार काम करने के लिए कहा जा रहा है. लेकिन न तो कंप्यूटर दिया जा रहा है और न ही मोबाइल दिए जा रहे हैं. हर जेई के पास एक कंप्यूटर ऑपरेटर होना चाहिए. लेकिन वह उपलब्ध नहीं है. अब कार्य बहिष्कर के जरिए अपनी मांगे पूरी करवाने पर जोर दिया जा रहा है.

Za Khan
za khan

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास 

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave