Visitors have accessed this post 37 times.

22 लाख की लूट का खुलासा, बेटे संग मिलकर मुनीम ने खुद दिया था वारदात को अंजाम
गांधीपार्क थाने के सामने से सुबह हुई कथित लूट का बारह घंटे में खुलासा, पूरी रकम मुनीम के घर से बरामद।

शहर मेे हुई 22 लाख की सनसनीखेज लूट का खुलासा करने का पुलिस ने दावा किया है। महानगर में धनीपुर मंडी के आढ़ती के मुनीम ने बृहस्पतिवार सुबह अपने बेटे संग मिलकर अपने फर्म स्वामी सहित चार फर्मों के 22 लाख रुपये लूट लिए। बाद में गांधीपार्क थाने के बगल में बदमाशों द्वारा लूट किए जाने की घटना बताकर सबको हिला दिया। वारदात को उस समय अंजाम देना बताया गया, जब मुनीम रुपये निकालकर बैंक से मंडी जा रहा था। खबर पर फर्म स्वामी के पसीने छूट गए और पुलिस में भी हड़कंप मच गया।

आनन-फानन एसएसपी सहित पूरा अमला मौके पर पहुंच गया। शुरुआती जांच में ही मुनीम की भूमिका संदिग्ध नजर आई। देर रात 12 बजे पुलिस ने मुनीम के घर से पूरी रकम बरामद कर पिता-पुत्र को लूट में गिरफ्तार कर लिया।

विष्णुपुरी के सौरभ गर्ग के अनुसार उनकी धनीपुर मंडी में नवीन कुमार-भूपेश कुमार के नाम से गल्ले की आढ़त है। उनकी फर्म पर पिछले करीब 7 साल से रहमतपुर गढ़मई के अजय कुमार बतौर मुनीम काम करते हैं। अजय का अपना कमालपुर रोड पर तेल का एक्सपेलर भी है। अक्सर रुपयों का लाने ले जाने का काम अजय ही करते हैं।

बृहस्पतिवार सुबह दुकान खुलने के बाद अजय को 22 लाख रुपये के चार चेक उन्होंने बैंक से भुगतान लेकर आने के लिए दिए। करीब 10:30 बजे अजय बैंक रवाना हुए और थाना गांधीपार्क के सामने स्थित एचडीएफसी बैंक से उन्होंने रुपये निकाले और बैग में रुपये रख अपनी होंडा साइन बाइक से वापस मंडी आने लगे। इसके बाद 11:23 बजे अजय ने फोन पर सौरभ को सूचना दी कि थाने से चार कदम आगे दो बाइकों पर सवार चार बदमाश उनसे रुपयों का बैग तमंचा दिखाकर लूट ले गए हैं। वह मंडी और थाना गांधीपार्क के बगल में प्रभात नगर से आगे खड़ा है।

इस सूचना पर खुद सौरभ व अन्य आढ़ती मौके पर दौड़ पड़े। एसएसपी कलानिधि नैथानी, एसपी सिटी कुलदीप सिंह गुणावत, सीओ द्वितीय मोहसिन खान, गांधीपार्क व महुआ खेड़ा पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। खुद एसएसपी दोपहर तक वहीं डटे रहे। सौरभ की तहरीर पर मुनीम अजय की भूमिका को संदिग्ध मानते हुए महुआ खेड़ा में लूट का मुकदमा दर्ज किया गया है।

इसके बाद मुनीम को देर रात तक हिरासत में लेकर चली जांच व पूछताछ में पूरा भेद खुल गया। खुद मुनीम ने अजय व उसके बेटे अंकुर ने मिलकर ये प्रपंच रचा। देर रात उसके घरे रकम भी बरामद कर ली गई। पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर लिया गया।

आढ़ती के मुनीम ने अपने मालिक को 22 लाख की लूट होना बताया था। आढ़ती की तहरीर पर मुनीम को संदिग्ध मुकदमा दर्ज कर लिया गया। घटनास्थल की जांच व मुनीम से हुई पूछताछ में उसकी भूमिका संदिग्ध थी। उसी आधार पर आगे बढ़ते हुए जांच की गई। पांच टीमों को घटना के खुलासे में लगाया और रात में मुनीम के घर से रकम बरामदगी में सफलता मिल गई। बेटा भी इस प्रपंच में शामिल रहा। उसे भी गिरफ्तार किया गया है।