Visitors have accessed this post 88 times.

अलीगढ़ : एक तरफ़ आज देश भर के किसानों ने तीनों कृषि कानूनों के वापस होने पर ख़ुशी मनाई जा रही है. वहीं अलीगढ़ के हिन्दू महासभा कार्यालय में प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर को अपने कार्यालय से हटा दिया. हिन्दू महासभा के पदाधिकारियों का कहना है कि जिसकी बात एक नहीं, उसका बाप एक नहीं, इसलिए प्रधानमंत्री मोदी की फोटो को अपने कार्यालय से हटाया है. ऐसे राष्ट्र नेता की फ़ोटो कार्यालय में नहीं लगाएंगे. जो अपनी बातों से पलट जाएं. आज कृषि कानून बिल को वापस लिया है. कल सीएए ,एनआरसी व धाना 370 कानून भी वापस ले सकते है. हिन्दू महासभा ने कहा कि सरकार काफिरों के दबाव में है. अखिल भारत हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव पूजा शकुन पांडे ने बताया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोर प्रशंसक थी और उनके किए गए कार्यों की कायल थी. लेकिन आज डेढ़ साल के बाद कृषि कानून को वापस लेना केवल राजनीति की गद्दी और चाहत में सिद्धांतों से समझौता करना है. उन्होंने कहा कि मुझे यह उम्मीद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नहीं थी. उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक व प्रशासनिक कारणों से दबाव में हो. लेकिन राजा वही है जो सिद्धांतों से समझौता न करें. उन्होंने कहा कि अगर आज उन्होंने सत्ता में बने रहने के लिए समझौता कर लिया है. तो इसका संदेश बहुत गलत जा रहा है. इससे काफिरों के हौसले बुलंद होंगे और आने वाले समय में धारा 370, सीएए- एनआरसी कानून को वापस ले सकते हैं. पूजा शकुन पांडे ने कहा कि इसी के चलते हमारे पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने कार्यालय से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर को हटा दिया है. इस तरह की उम्मीद प्रधानमंत्री मोदी से नहीं थी. वही अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अशोक पांडे ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर हमने उस दिन लगाई थी. जब धारा 370 कश्मीर से हटाई थी और जम्मू कश्मीर में शांति स्थापित की थी. लेकिन जिस तरीके से सरकार ने तीनों कृषि कानून वापस लिए है. इससे लगता है कि सरकार आततायियों के आगे घुटने टेक दिए हैं. अब तक सरकार जिन किसानों को अलगाववादी, खालिस्तानी ,गुंडे कहती थी. उनके दबाव में यह कानून वापस लिया है. कल को सीएए, एनआरसी और धारा 370 को भी वापस ले लेगी. राष्ट्रीय प्रवक्ता अशोक पांडे ने कहा कि अगर फिर से दिल्ली में सीएए-एनआरसी को लेकर लोग धरने पर बैठेंगे. तो सरकार दबाव में यह कानून भी वापस लेगी. सरकार को अपनी कथनी और करनी में अंतर किया है. इससे समूचे देश का विश्वास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तोड़ा है. इसलिए अपने कार्यालय से प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर को हटा दिया है और हमें ऐसे व्यक्ति से कोई उम्मीद नहीं है जो अपनी बातों से पलट जाएं।

Input : ZA Khan

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास 

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave