Visitors have accessed this post 14 times.

हाथरस :  दिनांक 24 नवंबर 2021 को राष्ट्रिय पंचायतीय राज संगठन का सम्मेलन नवग्रह मंदिर हाथरस में सम्पूर्ण हुआ जिसमें राष्ट्रिय अध्यक्ष एवं पूर्व एमएलसी चैधरी सुनील सिंह ने सर्वप्रथम समस्त पंचायत प्रतिनिधियों को उनके गंाव के जागरूक मतदाताओं द्वारा चुने जाने पर हार्दिक बधाई दी। इसी के साथ चैधरी सुनील सिंह ने कहा जैसा कि आपको ज्ञात है कि राष्ट्रिय पंचायतीय राज संगठन त्रिस्तरीय पंचायतीय राज संस्थानों एवं ग्राम सभाओं को सषक्त बनाते हुये उन्हे प्रषासनिक एवं वित्तीय अधिकार दिलाने के लिए सन् 1997 से संघर्शरत है। आजादी के बाद आज तक सरकारों पर सरकार और चेहरे पर चेहरे बदलते रहे हैं लेकिन गाॅंव और पंचायतों की स्थिति आज भी बदहाल है, क्योंकि कोई भी सरकार पंचायतों को उनके पूर्ण अधिकार सौपना नहीं चाहती।
गांधी जी के सपनांे का भारत बनाने के उद्देष्य से संविधान का 73वां तथा 74वां संषोधन वर्श 1993 में किया गया था और उसको लागू करने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों पर छोड़ दी गई थी। परन्तु आज 28 वर्शो वाद भी न तो पंचायतों को उनके पूर्ण अधिकार दिये गये और न ही कोई सरकार देना चाहती है। पंचायत प्रतिनिधि 90-95 प्रतिषत वोट पर चुनकर आता है जिसे ग्राम की जनता ने बडे विष्वास से चुना, परन्तु बड़ा ही दुःख का विशय है कि सरकार उनको उनका अधिकार देना ही नहीं चाहती। इतने सालों के बाद भी आज तक सत्ता के विकेन्द्रीकरण हेतु पंचायतों को वित्तीय एवं प्रषासनिक अधिकार नहीं सौपे गये। इन वर्शों में विभिन्न राजनैतिक दलों की सरकारे रहीं, लेकिन विधायकों एवं नौकरषाह ने पंचायतों के अधिकारों का अतिक्रमण करते हुये 29 विभागों के अधिकार पंचायतों को नहीं सौप पाये।
हमारे संगठन द्वारा पचंायतों को उनके प्रषासनिक एवं वित्तीय अधिकार दिलाने के लिए अनेकों बार धरना प्रदर्षन/भूख हड़ताल आदि कर कुछ अधिकार तो दिलाये परन्तु आज भी पंचायतों को उनके पूर्ण अधिकार नहीं मिल पाये हैं। चौधरी सुनील सिंह ने सभा को सम्बोधित करते हुये सरकार से मांग की है कि सभी प्रधान/बी.डी.सी./सभासद व जिला पंचायत सदस्यों को भी प्रति माह मानदेय एंव भत्ते विधायक एवं सांसदो की तर्ज पर दिये जाये,नही ंतो सभी के भत्ते बंद कर दिये जाये। अगर विधायक व सांसद के मानदेय व भत्ते सरकार बंद कर दे तो प्रधान/बी.डी.सी. को भी कोई भत्ता नहीं चाहिए। परन्तु अगर देष व प्रदेष की सरकार विधायक व सांसद को भत्तों के नाम पर प्रदेष व देष की जनता का पैसा बांट रही है तो उसी अनुपात में सभी पंचायत प्रतिनिधियों को भी भत्ता मिलना चाहिए।
एक बार सांसद व विधायक बनने पर पूरी उम्र पेंषन मिलती है परन्तु कोई प्रधान या बी.डी.सी पूरी उम्र भी पद पर रहे तो उन्हे कुछ नही मिलता। या तो सभी सांसदो/विधायकों के भत्ते/पेंषन बंद कर दिये जाये नही ंतो सभी को भत्ते व पेषंन दिलाने की आवाज संगठन द्वारा उठाते रहेगें।
विधान परिशद में पंचायतों के प्रतिनिधियों द्वारा 36 विधान परिशद सदस्य चुने जाते है जिनके उद्देष्य पंचायतों के हितों की बात करना है, परन्तु हमारा दुर्भाग्य है कि जो सदस्य चुनकर जाते है वह भा.ज.पा./व.स.पा./स.पा./कांग्रेस पार्टी में बंधकर रह जाते है। आप नव निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधि किसी पार्टी के एहसान से नहीं बल्कि अपनी काबिलियत पर चुने जाते है। समय आने पर सही व्यक्ति को चुनकर अपना प्रतिनिधित्व बनाये जो आपके हितों की लडाई लड़ सके।
सम्मेलन में मुख्य रूप से यथार्थ सिंह सादाबाद प्रमुख पति, धर्मवीर सिंह पूर्व प्रधान देवानंद राष्ट्रीय सचिव प्रदीप हुड्डा हरियाणा अध्यक्ष मोहम्मद नावेद जिला अध्यक्ष लोकदल भागीरथ युवा जिला अध्यक्ष लोकदल अशोक शर्मा सभासद हाथरस महाराज सिंह प्रधान चौधरी विजेंद्र सिंह प्रधान जितेंद्र पाल प्रधान भूपेंद्र प्रधान अखिलेश वीडीसी ,चंचल वर्मा बीडीसी देवेश शर्मा सभासद मौसम देवेंद्र कुमार बीडसी मुरसान उपस्थित रहे। कार्यक्रम कार्यक्रम की अध्यक्षता सत्यवीर सिंह जीने तथा कार्यक्रम का संचालन संदीप तोमर प्रभारी पश्चिम उत्तर प्रदेश ने की।

Input : Deepesh

यह भी देखे : हाथरस के NINE to 9 बाजार में क्या है खास 

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave