Visitors have accessed this post 39 times.

कोमोडो ड्रैगन एक विशाल छिपकली की प्रजाति है जों इण्डोनेशियाई द्वीप कोमोडो, रिंका, फ्लोरेस, गीली मोटांग और गीली दासमी में पाए जाती है। यह एक मॉनिटर छिपकली की प्रजाति (गिरगिट) है। कोमोडो ड्रेगन[मृत कड़ियाँ]आकार में छिपकलियों की प्रजाति में सबसे बड़े होते हैं. यह लंबाई में 3 मीटर तक बड़ सकता है व इनका का वजन 70 किलो तक होता है. इनके बड़े आकार को ही द्वीप की विशालता का कारण माना जाता है क्योंकि कोई और मांसाहारी जानवर इनके सिवा उस द्विप पर नहीं रहता सरीसृप की दुनिया में कोमोडो ड्रैगन के समूह असाधारण शिकारियों को में आते हैं. एक बड़ा कोमोडो ड्रैगन एक हिरण को खाता. वह सड़ा हुआ खाना कमी खाते हैं वह इंसानों पर कभी-कभी ही हमला करते हैंइनको सबसे पहले 1910 में यूरोपियों द्वारा देखा गया. जब जमीनी मगरमच्छ की खबरें न्यूटन पेन स्टैंड तक पहुंची और 1912 में बहुत बदनामी हुई. जब जैविक संग्रहालय की निदेशक पीटर ओवेंस ने अखबार में खबर छापी जब लिटिन एंड से उसकी फोटो व खाल मिली और इकट्ठा करने वाले से दो और नमूने मिले पहले दो जिंदा कमोडो ड्रैगन जो यूरोप में reptile हाउस में लंदन चिड़ियाघर में रखा गयाएक कोमोडो ड्रैगन का वजन 70 किलो तक होता है. और औसतन वयस्क का वजन 80 से 90 किलो तक होता है. इसकी लंबाई 2. 5 9 मीटर होती है व मादा कोमोडो का वजन 70 से 72 किलो तक होता है. इसकी लंबाई 2.29 मीटर होती है इसमें अब तक का सबसे भारी 166 किलो वजनी में 10 फीट लंबा देखा गया है. इसकी पूछ इसके शरीर के हिसाब से लंबी होती है जिसको 60 बार हटा दिया जाता है. इनके दानेदार दांत होते हैं इनकी लंबाई लगभग 1 इंच तक होती है. इसकी लार में खून अक्सर पाया जाता है क्योंकि इसके दांत मसूड़ों के ऊतक से ढके हुए होते हैं इसे खाते वक्त लुंज हो जाते हैं. इसके पास लंबी पीली कांटेदार जीभ होती है |

INPUT – JYOTI GOSWAMI

अपनी क्षेत्रीय ख़बरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA चैनल का एंड्राइड ऐप –

http://is.gd/ApbsnE