Visitors have accessed this post 50 times.

रायबरेली में चुनावी जनसंपर्क शबाब पर है। प्रत्याशी हर वर्ग हर समुदाय के दरवाजे पर दस्तक दे रहे हैं। लेकिन इन्ही के बीच एक वर्ग ऐसा भी है जो खुद को उपेक्षित महसूस कर रहा है। इनके पास न तो कोई वोट मांगने आता है और न ही भाषणों में इनका ज़िक्र होता है। यह वर्ग है थर्ड जेंडर यानि किन्नर समुदाय। चुनाव आयोग की निगाह में यह महत्वपूर्ण वोटर हैं। महिला और पुरुष के साथ मतदाता सूची में एक कालम इनका भी है। रायबरेली में अनंतिम प्रकाशित सूची में इनकी संख्या महज़ 86 है। पूरे ज़िले में जहां वोटरों की संख्या 34 लाख 27 हज़ार है वहां 86 वोटर भला क्या अहमियत रखते हैं। यही वजह है कि राजनैतिक रूप से इनकी कोई पूछ नहीं। किन्नरों की रायबरेली गद्दी की मुखिया किन्नर पूनम तिवारी उर्फ बुआ जी राजनैतिक उपेक्षा से दुखी हैं। वह कहती हैं,हम लोग समाज के हर वर्ग का भला चाहते हैं। सब की तरक्की के लिए दुआ भी करते है। ऐसे में जब प्रत्याशी पड़ोसी के घर वोट मांगने आते हैं और उनसे नहीं मांगते तो तकलीफ होती है।

INPUT – RAVINDRA SINGH

अपनी क्षेत्रीय ख़बरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA चैनल का एंड्राइड ऐप –

http://is.gd/ApbsnE