Visitors have accessed this post 80 times.

सिकंदराराऊ : शुक्रवार को सिकंदराराऊ में जीटी रोड पर प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। इस दौरान कई जगह पर अधिकारियों और दुकानदारों के बीच तीखी नोकझोंक हुई । दुकानों के आगे फुटपाथ पर किए गए अतिक्रमण को प्रशासन द्वारा हटाया गया। वहीं कई स्थानों पर दुकानदारों ने स्वयं ही अतिक्रमण हटाए । प्रशासन ने कई लोगों से जुर्माना भी वसूल किया। उप जिलाधिकारी अंकुर वर्मा एवं सीओ सुरेंद्र सिंह के निर्देशन में कोतवाली की ओर से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू की गई। सड़क के किनारे लगे फ्लेक्स, यूनीपोल और दुकानों के आगे हो रहे अतिक्रमण को जेसीबी मशीन द्वारा ध्वस्त कराने का सिलसिला एक बार शुरू होने के बाद पंत चौराहे तक जारी रहा। तत्पश्चात पंत चौराहे से दूसरी साइड में अतिक्रमण हटाए गए । कुछ दुकानदारों ने प्रशासन पर भेदभाव के आरोप लगाए।
बता दें कि कस्बा के जीटी रोड के दोनों साइड दुकानदारों और अन्य लोगों के द्वारा फुटपाथ के ऊपर के कई फुट आगे तक स्थाई अस्थाई अतिक्रमण कर रखा था, जिसके कारण आने जाने वाले वाहनों को और पैदल राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। वहीं अक्सर कर जाम भी लग जाता था। एसडीएम अंकुर वर्मा के द्वारा पूर्व में कई बार अतिक्रमणकारियों को चेतावनी दे दी गई थी कि अपने अतिक्रमण स्वयं हटा लें वरना तोड़ दिए जाएंगे और जुर्माना वसूला जाएगा। लेकिन अतिक्रमणकारियों के द्वारा उनकी इस चेतावनी का कोई संज्ञान नहीं लिया गया । शुक्रवार को एसडीएम अंकुर वर्मा, सीओ सुरेन्द्र सिंह ने फोर्स व नगरपालिका टीम के पूरे अमले के साथ जीटी रोड पर बुलडोजर लेकर पहुंच गए और अतिक्रमणकारियों के स्थाई और अस्थाई निर्माण पर बुलडोजर चलवाना शुरू कर दिया। टीम के द्वारा जुर्माना भी वसूला गया है। एसडीएम की इस कार्रवाई के बाद अतिक्रमण कारी जल्दी-जल्दी अपने अतिक्रमण तोड़ने लग गए हैं ।
समाजवादी पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष युवराज सिंह यादव के शोरूम के आगे का अतिक्रमण जेसीबी चलाकर तोड दिया फिर पूर्व चेयरमैन पति इकराम क़ुरैशी की दुकान पर फुटपाथ से आगे हो रहे अतिक्रमण को नायव तहसीलदार अजय सन्तोषी ने जेसीबी चलवाकर तुड़वा दिया। मोके पर पूर्व चेयरमैन पति इकराम क़ुरैशी लोगों के साथ पहुंच गये और नायव तहसीलदार अजय सन्तोषी से बहुत तेज नोंकझोंक हो गई । जीटी रोड पर एक सभासद के मकान के आगे हो रहे अतिक्रमण को भी प्रशासन ने ध्वस्त करा दिया।

 

vinay