Visitors have accessed this post 134 times.

सिकंदराराऊ : मंदिर श्री बांके बिहारी जी महाराज सिकंदराराऊ में तीज पर्व के उपलक्ष में महोत्सव का आयोजन किया गया। इस अवसर पर दिल्ली इस्कॉन व वृंदावन इस्कॉन से पधारे आचार्यों एवं गौरांग प्रभु जी, नवनीत प्रभु जी व मंदिर के भक्तों द्वारा साज सज्जा की गई।

दिल्ली इस्कॉन से पधारे आचार्य ने कहा कि भागवत कथा ज्ञान का भंडार है। भागवत कथा के माध्यम से समाज की दिशा और दशा का निर्धारण होता है। लोगों को धर्म की ओर बढ़ने की प्रेरणा मिलती है।
वृंदावन से आए प्रभु जी ने बताया कि बंदर और चिड़िया के बारे में चिड़िया कह रही थी बंदर भैया बंदर भैया आप इतने हष्ट पुष्ट हैं तो अपना घर क्यों नहीं बना लेते । हम इतनी छोटी सी चिड़िया है फिर भी अपना घोंसला बनाकर रहते हैं। इस पर बंदर को गुस्सा आया बंदर ने चिड़िया का घोंसला तोड़ दिया ।
इस अवसर पर राजकुमार वार्ष्णेय, प्रभात कुमार, उमेश वार्ष्णेय, सनी भारद्वाज , कृष्णा वार्ष्णेय, अमूल , बंटी, गोविंद , गोपाल, नितिन माहेश्वरी, गौरव , मनोज , परी, अनिल , सौरभ किराना , हर्ष वार्ष्णेय, आकाश वार्ष्णेय, योग वार्ष्णेय, सागर, दीपक, शिवांगी, शिल्पी मैडम, हिना वार्ष्णेय, पूनम सिसोदिया , रजनी वार्ष्णेय, सुनीता सभासद, भावना सभासद, मुकुल वार्ष्णेय, विपिन कुमार लाल, साधना मैडम, आरती वार्ष्णेय, बाबूलाल, कमल वार्ष्णेय, कीर्ति ,परी वार्ष्णेय, ममता, अर्चित ,कृष्णा, मनीष गोदानी, संजीव माहेश्वरी आदि उपस्थित थे।

इनपुट : विनय चतुर्वेदी