Visitors have accessed this post 40 times.

राजू श्रीवास्तव के निधन से एक तरफ जहां फिल्म और टीवी इंडस्ट्री को बड़ा झटका लगा है, वहीं परिवार में बहुत बुरा हाल है। पत्नी शिखा, बेटी अंतरा और परिवार के सभी लोग 42 दिन से दिन-रात राजू के ठीक होने की प्रार्थना कर रहे थे। 20 सितंबर तक भी परिवार के लोगों को विश्वास था कि राजू ठीक हो जाएंगे पर होनी को कुछ और ही मंजूर था। पत्नी शिखा श्रीवास्तव का रो-रोकर बुरा हाल है। उन्हें संभालना भी मुश्किल हो पा रहा है। शिखा श्रीवास्तव को रात-दिन आस लगाए थीं कि उनका हमसफर यह लड़ाई लड़कर जल्द ही उनके पास लौट आएगा। शिखा 42 दिन से दिल्ली के एम्स में पति राजू श्रीवास्तव के पास थीं। उन्हें राजू का चेहरा तो निहारने को मिल रहा था, लेकिन उनकी आवाज सुनने के लिए तरस गई थीं। शिखा इंतजार में थीं कि पति राजू श्रीवास्तव को एक दिन होश आएगा और वह आंखें खोलेंगे। ठीक होकर जल्दी वापस लौट आएंगे। लेकिन राजू श्रीवास्तव के निधन के साथ यह इंतजार, इंतजार ही रह गया। किसी तरह खुद को संभालते हुए हमारे सहयोगी ईटाइम्स से कहा, ‘मैं अभी बात करने की स्थिति में नहीं हूं। मैं अभी क्या ही कह सकती हूं? वह जिंदगी के लिए बहुत लड़े। मैं बड़ी आस लगाए हुए थी। प्रार्थना कर रही थी कि वह इससे उबर आएंगे, ठीक होकर लौट आएंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बस इतना ही कह सकती हूं कि वह एक सच्चे फाइटर थे।’ राजू श्रीवास्तव के भतीजे कुशल श्रीवास्तव और उनके फैमिली फ्रेंड डॉ. अनिल मुरार्का पिछले 2 महीने से लगातार एम्स जा रहे थे और राजू का हाल जान रहे थे। कुशल ने कहा कि Raju Srivastav का निधन दूसरे कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुआ। 20 सितंबर तक भी उन्हें विश्वास था कि राजू ठीक हो जाएंगे क्योंकि दो महीने से वह लगातार लड़ रहे थे। वहीं राजू के दोस्त और डॉ. अनिल ने बताया कि वह और राजू कॉलेज के दिनों से दोस्त थे। वह बोले, ‘मैं राजू को 37 साल से भी ज्यादा वक्त से जानता हूं। हम दोनों ने बहुत स्ट्रगल किया और कभी नहीं सोचा था कि यहां तक पहुंचेंगे। राजू भाई ने ऐसी जिंदगी जी जिस पर उन्हें हमेशा गर्व होता था। मैं प्रार्थना करता हूं कि वह जहां भी हों, वहां उन्हें शांति और सुकून मिले।

INPUT- JYOTI GOSWAMI