Visitors have accessed this post 84 times.

बरेलीः स्वतंत्रता सेनानी, पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद स्वर्गीय श्रीराममूर्ति की 34वीं पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि समारोह को श्रीराममूर्ति स्मारक कालेज आफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नालॉजी स्थित श्रीराममूर्ति शतिक प्रेक्षागृह में आयोजित हुआ। सभी ने उन्हें याद किया और श्रद्धासुमन अर्पित किए। श्रद्धांजलि समारोह में केजीएमयू के पीडियाट्रिक सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर (डा.) शिव नारायण कुरील, ग्वालियर स्थित राजा मानसिंह तोमर संगीत एवं कला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर (डा.) साहित्य कुमार नाहर और प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के वरिष्ठ पत्रकार और आर्थिक चैनल मनी 9 के संपादक, लेखक अंशुमान तिवारी जी को श्रीराममूर्ति प्रतिभा अलंकरण प्रदान किया गया। जिसके तहत सभी को अंगवस्त्र, सर्टिफिकेट और 51 हजार रुपये प्रदान किए गए। सालाना कहानी प्रतियोगिता में विजेताओं निशांत कुमार (कहानी- धरोहर की वापसी, प्रथम पुरस्कार), विकास कुमार (कहानी- बड़प्पन, द्वितीय पुरस्कार), त्रिज किशोर (कहानी- कर भला सो हो भला, तृतीय पुरस्कार), सिद्धांत आर्य (कहानी- अविश्वास की गहराई, सांत्वना पुरस्कार) को भी सर्टिफिकेट के साथ नकद राशि प्रदान की गई। माधव राव सिंधिया पब्लिक स्कूल को वाद विवाद प्रतियोगिता के कनिष्ठ वर्ग में और बरेली कालेज बरेली को वाद विवाद प्रतियोगिता के वरिष्ठ वर्ग में चल वैजयंती प्रदान की गई। ट्रस्ट के सभी शैक्षिक संस्थानों के मेधावी विद्यार्थियों को 3.5 करोड़ की स्कालरशिप प्रदान की गई।
इससे पहले एसआरएमएस ट्रस्ट के संस्थानों में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती मनाई गई। उनके साथ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीराममूर्ति जी के चित्रों पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए। राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया और महात्मा गांधी के प्रिय भजन गाए गए।
ट्रस्ट के संस्थापक और चेयरमैन देवमूर्ति जी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि ट्रस्ट अपनी स्थापना से ही मानवसेवा और राष्ट्र सेवा का उद्देश्य लेकर आगे बढ़ा है और हम इसमें कामयाब भी हुए हैं। आज ट्रस्ट की ओर से संचालित निशुल्क स्वास्थ्य सेवाओं और निशुल्क शैक्षिक योजनाओं से युवा लाभ उठा कर स्वस्थ होने के साथ रोजगार अर्जित कर रहे हैं। महापौर डा.उमेश गौतम ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीराममूर्ति जी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें संस्कारों का प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि राममूर्ति जी स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ ही भारतीय संस्कृति के पोषक थे। उनके पुत्र और पौत्र इसे जिस तरह सींच रहे हैं वह गर्व करने की बात है। ऐसे पुत्र और पौत्र पर सभी को गर्व होना चाहिए। राममूर्ति जी को भी इन पर गर्व होगा। सभी को इनसे सीखने की जरूरत है। इनसे सीखना चाहिए कि घर में बुजुर्गों का कैसे सम्मान किया जाता है और कैसे परिवारों को संस्कारों बांधा जाता है। श्रद्धांजलि समारोह में आए सभी अतिथियों को ट्रस्ट के सचिव आदित्य मूर्ति ने धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि बाबू जी के दिए संस्कारों की बदौलत और आप सभी के आशीर्वाद से आज एसआरएमएस परिवार 34वां श्रद्धांजलि समारोह मना रहा है। कार्यक्रम का संचालन प्लेसमेंट सेल के निदेशक डा.अनुज कुमार ने किया।
कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीराममूर्ति जी को श्रद्धांजलि दी और इस मौके पर आयोजित ब्लड डोनेशन कैंप का उद्घाटन किया। उन्होंने रक्तदान करने वालों की प्रशंसा की और उन्हें सर्टिफिकेट भी प्रदान किए। दो दिवसीय ब्लड डोनेशन कैंप में 80 यूनिट ब्लड दान किया गया। श्रद्धांजलि समारोह में विधायक शहजिल इस्लाम, भोजीपुरा ब्लाक प्रमुख योगेश पटेल, डीआरएम एनईआर आशुतोष पंत, ट्रस्टी आशा मूर्ति, ऋचा मूर्ति, ट्रस्ट एडवाइजर इंजीनियर सुभाष मेहरा, गुरु मेहरोत्रा, सुरेश सुंदरानी, डा.वंदना शर्मा, डा.अनुराग मोहन, मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा.एसबी गुप्ता, मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डा.आरपी सिंह, डीन एकेडेमिक्स डा.प्रभाकर गुप्ता, प्राचार्य एसआरएमएस सीईटीआर डा.एलएस मौर्य, प्राचार्य नर्सिंग कालेज डा.रिंटू चतुर्वेदी, डायरेक्टर ला कालेज डा.नसीम अख्तर सहित सभी संस्थनों के लोग मौजूद रहे।

vinay

यह भी देखें :-