Visitors have accessed this post 20 times.

सिकंदराराऊ : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्त्ताओ द्वारा नगर के अमोल चंद्र पब्लिक स्कूल में रानी लक्ष्मी बाई जयंती को नारी शक्ति दिवस को विचार गोष्ठी के रूप में मनाया गया । जिसमे मुख्य अतिथि स्कूल प्रबंधक विपिन वार्ष्णेय मुख्य वक्ता संघ के नगर संघचालक प्रवीण वार्ष्णेय ओर एबीवीपी नगर अध्यक्ष इंद्रदेव पालीवाल एवम कार्यक्रम अध्यक्ष एबीवीपी नगर उपाध्यक्ष शिल्पी माहेश्वरी ने दीप प्रज्वलित कर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । मुख्य वक्ता ने सुभद्रा कुमारी चौहान के पंक्तियों के माध्यम से अपने विचारों को व्यक्त किया ।
सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी।
चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।
शिल्पी माहेश्वरी ने कहा कि कि स्त्री शक्ति हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है। हालांकि पहले महिलाओं को सिर्फ हाउस वाइफ के रूप में देखा जाता था, लेकिन आज हर क्षेत्र में पुरुषों से न केवल कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं, बल्कि उनसे आगे भी निकल रही हैं। कार्यक्रम का संचालन देव वार्ष्णेय ने किया । विचार गोष्ठी में उपस्थित अखिल वार्ष्णेय , पीयूष शर्मा , राहुल कुमार , पीयूष गुप्ता ,आकाश शर्मा , अंशुल माहेश्वरी , जयंत आर्य , खुशी सिंह , ऋतु सिंह , आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे ।

vinay

यह भी देखें :-