Visitors have accessed this post 24 times.

आजमगढ़ गणतंत्र दिवस की रात करीब 11.30 बजे जिले की पुलिस को बड़ी कामियाबी मिली। चार दिन पूर्व कारागार के आवास में घुसकर सिपाही को गोली मारने वाले 50 हजार के इनामी बदमाश को पुलिस ने मार गिराया। मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से एक आरक्षी भी घायल हो गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बदमाश का एक साथी भागने में सफल रहा।

22 जनवरी को बंदी रक्षक मान सिंह पर हमले को पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी ने चुनौती के रूप में लिया था। घटना में शामिल बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए कई पुलिस टीमों का गठन किया गया था। पुलिस लगातार कांबिंग कर रही थी। शुक्रवार की रात संदिग्धों की तलाश में जुटी सिधारी थाने की पुलिस क्षेत्राधिकारी नगर के नेतृत्व में हलुआडिह पेट्रोल पंप के पास चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान पुलिस को मेहनगर की तरफ से छतवारा की तरफ एक बाइक आती दिखाई दी।

पुलिस ने रुकने का इशारा किया तो बाइक सवार बदमाश ने पुलिस पर फायर कर दिया। बदमाश द्वारा चलाई गई गोली लगने से आरक्षी उदयभान घायल हो गया। पुलिस की जवाबी फायरिंग में एक बदमाश गोली लगने से गंभीररूप से घायल हो गया वहीं उसका साथी अंधेरा और कोहरे का फायदा उठाकर फरार हो गया। घायल बदमाश की पहचान हिस्ट्रीशीटर मुकेश कुमार पुत्र नंदलाल निवासी ग्राम मुतक्कलीपुर थाना पवई के रूप में की गई। पुलिस ने उसके पास से एक 9 एमएम पिस्टल, तीन जिंदा और एक खोखा व बाइक बरामद किया।

घायल बदमाश और आरक्षी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उपचार के दौरान रात करीब 12 बजे बदमाश की मौत हो गई। पुलिस अधीक्षक अजय कुमार साहनी ने बातया कि बदमाश ने 22 जनवरी को बंदी रक्षक मानसिंह यादव पर जानलेवा हमला किया था। उस बदमाश पर 50 हजार रूपये का इनाम है। उसके खिलाफ विभिन्न थानों में कई गंभीर मामले पंजीकृत है। उन्होंने बताया कि फरार बदमाश की गिरफ्तारी के लिए लगातार कांबिंग की जा रही है। जल्द ही उसे पकड़ लिया जाएगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here