Visitors have accessed this post 126 times.

वैसे तो झोलाछाप डॉक्टरों पर लगातार कार्रवाई करने का दावा प्रदेश का स्वास्थ्य अमला नजर आता है,पर दूरस्थ इलाकों में यह हवाहवाई ही नजर आता है मामला खगरिया जिले का है जहां पर एक झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से एक मासूम बच्चे असमय ही काल के गले में समा गया आपको बता दें खगरिया जिले के अलौली प्रखंड, पंचायत सरवन्नि,ग्राम गम्हरिया,के मनखुश कुमार उर्फ शिवम उम्र 4 वर्ष  पिता पुनीत नंदन साह तो निमोनिया था, वह विगत 2 दिन पूर्व निमोनिया से ग्रसित हो गया था उसके परिजन ग्रामीण झोलाछाप डॉक्टर को  दिखाया जब उस बच्चे की स्थिति खराब होने लगे उसे सदर अस्पताल खगड़िया भेज दिया, सदर अस्पताल के डॉक्टर ने उसे मृत घोषित करार दे दिया

 डॉक्टरों की वजह से मासूमों की मौत हो गई पर जिला के प्रशासनिक तंत्र चुप बैठा हुआ है लोगों में चर्चा का विषय है कि यह झोलाछाप डॉक्टर पैसे खिलाकर अपना धंधा जोर-शोर से कर रहे हैं अब देखना होगा कि कब जिला प्रशासन के निंद से जगती है और ऐसे लोगों पर कार्रवाई होती है
INPUT – SamSher Bahadur

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here