Visitors have accessed this post 76 times.

अलीगढ। विश्व कल्याण की मंगलमय कामना के उद्देश्य से वैदिक ज्योतिष संस्थान पर चल रहे गुप्त नवरात्रि अनुष्ठान के चौथे दिन भगवती का पूजन अर्चन कर आशीर्वाद लिया।

बुधवार को स्वर्ण जयंती नगर सीजंस अपार्टमेंट स्थित वैदिक ज्योतिष संस्थान कार्यालय पर मुख्य यजमान अभिषेक जैन-आंचल जैन,चिराग जैन-दिव्या जैन द्वारा स्वामी पूर्णानंदपुरी जी महाराज के सानिध्य में आचार्य गौरव शास्त्री,शिवम शास्त्री,ऋषि शास्त्री, रवि शास्त्री,ऋषभ वेदपाठी, ओम वेदपाठी आदि अचार्यों ने भगवती का पूजन एवं पुष्पों से सहस्त्रार्चन करवाया इस अवसर पर महाराज श्री ने बताया कि गुप्त नवरात्रि में दस महाविद्याओं की उपासना एवं साधना की जाती है जिसमें साधक को कठोर नियमों का पालन करना पड़ता है इसलिए तांत्रिक और साधू मुख्य रूप से मां दुर्गा को प्रसन्न करते हैं और गुप्त सिद्धियां और तांत्रिक सिद्धियां प्राप्त करते हैं,यह भी मान्यता है कि इस दौरान मां दुर्गा की पूजा जितनी गुप्त रखी जाती है उसका फल उतना ही ज्यादा प्राप्त होता है। इस नवरात्रि में की गयी उपासना से माँ भगवती प्रसन्न होकर धन वैभव एवं यश प्रदान करती हैं।
स्वामी पूर्णानंदपुरी जी महाराज ने बसंत पंचमी के पर्व पर माँ सरस्वती पूजन के विषय में बताया कि आज वैदिक ज्योतिष संस्थान पर भगवती सरस्वती की विधिविधान से पूजा अर्चना की जाएगी और जो बच्चे मानसिक रूप से पढ़ाई में कमजोर हैं उनकी जीभ पर माँ सरस्वती का भोग लगाया हुआ शहद बुद्धि बढ़ाने के लिए चांदी या सोने की सलाई से “ॐ क्लीं” मंत्र का लेखन वैदिक ब्राह्मणों द्वारा किया जायेगा,जो लोग संस्थान पर आने में असमर्थ है वो अपने घर पर भी बच्चो की जीभ पर लिख सकते है,जिससे बच्चे ना केवल मानसिक रूप से मजबूत होंगे बल्कि शारीरिक रूप से भी स्वस्थता आएगी।साथ ही इस दिन सुख शांति समृद्धि प्राप्त करने के लिए माँ भगवती सरस्वती को मीठे पीले चावल का भोग अवश्य लगाए।
शतचंडी यज्ञ के चतुर्थ दिवस पर आशीष तायल, शालू तायल,लोरिक यादव(हरदुआगंज),सीमा चौधरी,पवन तिवारी,रजनीश वार्ष्णेय,सुमित वर्मा,रविंद्र चौधरी,तेजवीर सिंह,शिब्बू अग्रवाल,आदि भक्त मौजूद रहे।