Visitors have accessed this post 40 times.

यूपी के एक स्कूल में प्रधानाध्यापक व उसके बेटे ने ऐसा गंदा काम किया। जिसने इंसानियत को धब्बा लगा दिया। प्रदेश के आजमगढ़ जिले में यह घटना घटी। आगे की स्लाइड्स में जानें पूरा मामला

जिले में एक महिला शिक्षामित्र को स्कूल ने खुलने पर प्रधानाध्यापक की शिकायत एबीएसए से कर दी। जिससे एबीएसए ने प्रधानाध्यापक को फटकार लगा दी। इस बात से नाराज होकर प्रधानाध्यापक और उसका बेटा रिवाल्वर लेकर स्कूल पहुंचा। इसके बाद दोनों ने मिलकर शिक्षामित्र को पटक पटककर पीटा। जिससे शिक्षामित्र और उसकी की बेटी घायल हो गए। शिक्षामित्र की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज किया है। 

रविवार को पल्स पोलियो अभियान के तहत डीएम ने जूनियर तक के सभी विद्यालयों को खोलने का निर्देश दिया था। इसी क्रम में जिले के बरदह थाना क्षेत्र के नर्वे गांव में इस क्रम में बरदह थाने के नर्वे गांव में स्थित प्राइमरी स्कूल में तैनात शिक्षामित्र सुधा सिंह अपनी बेटी को लेकर स्कूल पहुंची।

स्कूल बंद होने पर प्रधानाध्यापक ओमप्रकाश सिंह को फोन किया। पर 11 बजे तक स्कूल न खुलने पर सुधा ने एबीएसए मार्टीनगंज अवधेश सिंह को फोन किया। एबीएसए ने प्रधानाध्यापक को फटकार लगाई। तब ओमप्रकाश सिंह अपने बेटे आलोक सिंह को लेकर स्कूल पहुंचे। आरोप है कि शिकायत करने को लेकर उन लोगों ने सुधा सिंह से मारपीट की। इस दौरान आलोक के हाथ में रिवाल्वर था। मारपीट में सुधा की बेटी को भी चोट लगी। 

वहीं एक निजी अस्पताल में भर्ती सुधा ने फोन पर बताया कि आलोक रिवाल्वर लिए हुए था और उससे गोली मारने की धमकी दे रहा था। जबकि पुलिस आलोक के पास तमंचा होने की बात बता रही है। घटना के संबंध में सीओ लालगंज संतोष सिंह ने बताया कि केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है।

उधर इस संबंध में एबीएसए मार्टीनगंज अवधेश सिंह ने कहा कि पूरे मामले की जांच कर दोषियों के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई की जाएगी। प्रभारी बीएसए/डीआईओएस डा. बीके शर्मा का कहना है कि डीएम के आदेश पर प्रधानाध्यापक ओमप्रकाश सिंह को निलंबित कर दिया गया। मामले की जांच की जा रही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here