Visitors have accessed this post 63 times.

बेगूसराय – बिहार के बेगूसराय से 25 किमी दूरी  मंझौल स्थित 52 शक्तिपीठों में से एक जयमंगलगढ़ प्राकृतिक सौंदर्य का एक मिशाल है। इसके अतराफ में फैले कावर झील पक्षी आश्रायणी के रूप में विश्व प्रसिद्ध है। यहां का मनोरम दृश्य मन में शांति प्रदान करती है। उक्त बातें मुंगेर डीआईजी मनु महाराज ने सोमवार को जयमंगलागढ़ स्थित कावर पक्षी आश्रायणी बिहार के निरीक्षण के दौरान कही। उन्होंने कहा पर्यटन के लिहाज से ख़ासकर इस क्षेत्र में पहुंचने वाले पर्यटकों को कोई भय न हो। इसके लिए पुलिस प्रशासन कटिबद्ध है। इसी कड़ी को मजबूती प्रदान करने के लिए आज का यह दौरा कार्यक्रम है। निरीक्षण के दौरान विभिन्न स्थलों पर स्थानीय अधिकारियों को विभिन्न दिशा निर्देश देते दिखे। जबकि निरीक्षण के क्रम में पहुंचे स्थानीय डीडीन्यूज के पत्रकार सह जयमंगला काबर फॉउंडेशन के अध्यक्ष राजेश राज से बातचीत कर यहां की ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक पहलुओं की जानकारी ली। उन्होंने कहा लोग खुले वातावरण में निर्भय होकर यहां के प्राकृतिक सौंदर्य का नजारा कर सकें, इसके लिए पुलिस प्रशासन सजग है। इस  ऐतिहासिक स्थल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने के लिए पुलिस का पुरा सहयोग क्षेत्रवासियों एवं पर्यटकों को उपलब्ध कराया जाएगा। ताकि पर्यटकों को यहां पहुंचने में किसी प्रकार की दुविधा उत्पन्न न हो। इसके लिए जयमंगलगढ़ में टुरिष्ट पुलिस पोस्ट स्थापित करने की हिदायत जिला पुलिस कप्तान को दिया गया। इसे अमलीजमा देने की भी हिदायत दी।
INPUT – अभिमन्यु सिंह

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here