Visitors have accessed this post 72 times.

मंसूरचक  (बेगूसराय )प्रखंड के नवटोल  गांव में स्थित राजकीय मध्य विद्यालय नवटोल  के प्रांगण में एक भव्य शिक्षक सम्मान समारोह का आयोजन अवकाशप्राप्त  शिक्षक राघवेन्द्र शर्मा  के विदाई समारोह के रूप में की गई.इस विदाई सह सम्मान समारोह का आयोजन लगभग 20  वर्षो से इस विद्यालय में शिक्षक पद पर कार्यरत राघवेन्द्र शर्मा  के अवकाशप्राप्त  के बाद विदाई के उपलक्ष्य में किया गया.उनके सम्मान समारोह में सैकड़ों की संख्या में आस पास के गांव के अभिभावक, महिलाएं, जिले के प्रबुद्ध व्यक्ति जनप्रतिनिधि तथा कई विद्यालयो के शिक्षक -शिक्षिकाएं उपस्थित थे. राघवेन्द्र शर्मा  के अवकाशप्राप्त  से सभी अभिभावक, शिक्षक, तथा छात्र- छात्राएं इस कदर आहत थे की सभी की आंखें नम हो गई .पूर्व प्रधानाध्यापक सह ग्रामीण नागेश्वर चौधरी  ने शिक्षक राघवेन्द्र शर्मा  के शिक्षा के क्षेत्र में किये गए योगदान एवं पठन- पाठन के प्रति उनकी सजगता पर जब विस्तार से प्रकाश डाला तो लोग बरबस ही भावुक हो गया.वहीं उन्होंने कहा की अभी तक यह परंपरा रही है कि विद्यालय से केवल सेवानिवृत शिक्षक के ही विदाई में सम्मान समारोह या विदाई समारोह का आयोजन होता रहा है .लेकिन आज पहली बार किसी शिक्षक के अवकाशप्राप्त  पर उनके विदाई के अवसर पर इतना बड़ा सम्मान देखने को मिला है .इससे सहज ही यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि विद्यालय के प्रारंभ से आज तक उन्होंने कितनी ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया होगा. वही जिला शिक्षा पदाधिकारी श्यामबाबू राम  ने कहा की “कौन कहता है कि आंसमा में सुराग नही हो सकता बस एक पत्थर तो तबियत से उझालो यारों” श्री शर्मा  अपने  बर्षो के कार्य काल में शिक्षा के क्षेत्र में जो अलख जगाई है.वह अभिभावकों के दिल में जगह बना लिया है.उन्होने यह साबित कर दिया है. कि अपने कार्यो के प्रति सच्ची निष्ठा और लगन ही आपको सम्मान का हकदार बनाती है. मौके पर बीडीओ प्रभात कुमार दत्त, बीईओ संगीता कुमारी, जिला परिषद सदस्य ललित देवी, प्रमुख जलस देवी,प्रखंड शिक्षा समिति अध्यक्ष मोहम्मद वाहिद,  मुखिया ईजहार अंसारी  रामसागर महतो, मो आफताब, वशिष्ठ बाबू,  अबुल खैर अंसारी, सुरेश कुमार मालाकार, अशोक कुमार चौधरी, सहित अन्य ने संबोधित किया वही कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व प्रधानाध्यापक नागेश्वर चौधरी ने किया और मंच संचालन मो आफताब ने की

INPUT – आशीष भूषण झा

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here