Visitors have accessed this post 38 times.

भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना आयुष्मान गोल्डन कार्ड बनाने में लापरवाही दिखा रहे सीएससी संचालकों की सीएससी आईडी और ई डिस्ट्रिस्ट आईडी को निरस्त किया जाएगा।
शुक्रवार को यह बताते हुए सीएससी जिला प्रबंधक प्रदीप सिंह ने कहा कि बार बार कहने के बाद भी काफी सीएससी संचालक आयुष्मान भारत योजना में कार्य नही कर रहे है जिसकी वजह से हाथरस में आयुष्मान कार्ड बनाने की प्रगति भी बहुत ही कम है और लाभार्थी इस योजना से वंचित है और उन्हें इस योजना का लाभ नही मिल पा रहा है। उन्होंने बताया कि सीएससी से पहले आयुष्मान कार्ड बनाने का शुल्क 30 रुपये था उसे भी सरकार द्वारा माफ कर दिया गया है। और सरकार प्रति कार्ड बनाने का भुगतान सीधे सीएससी संचालकों को करेगी। उन्होंने बताया कि आयुष्मान कार्ड सिर्फ उन्हीं लोगों का बनेगा जिनका आयुष्मान के लाभार्थियो की लिस्ट में नाम होगा। उधर सीएससी संचालकों का कहना है कि अधिकतर गांव में आयुष्मान कार्ड बनाए जा चुके हैं और वहीं कुछ गांव में लोग आयुष्मान बनवाने में रूचि नहीं दिखा रहे है। इससे वीएलई पूरे दिन बैठे लाभार्थी का इंतजार करते है। जिससे उनका सेंटर पर बैठकर मिलने वाला लाभ भी नहीं मिल पाता। साथ ही आशा और आंगनबाडी का कोई सहयोग नहीं मिल पाता है। संचालकों ने फोन पर बताया कि लाभार्थियों की लापरवाही और उदाससीनता के कारण आयुष्मान कार्ड का काम धीमा हो गया है।

INPUT – Avid Hussain

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA ऐप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp