Visitors have accessed this post 218 times.

लखीमपुर खीरी- सड़कों पर फर्राटा भर रहे ओवरलोड और ओवरहाईट वाहन लोगों के लिए जान का खतरा बने हुए है यही नहीं इन वाहनों से लगातार हादसे हो रहे हैं लेकिन जिम्मेदार मौन बने हुए हैं। जनपद की सड़कें लगातार खून से लाल हो रही हैं पिछले रिकार्ड धवस्त होते जा रहे है पर जिम्मेदार अपनी अवैध कमाई को बंद करने को तैयार नही हैं और न सुधरने की शपथ ले रखी है शासन अगर सुधार चाहता है तो लखनऊ से टीम गठित कर कराएं जाँच तो हकीकत आ जाएगी सामने और महाभ्रष्टों को जाना होगा जेल।जनपद खीरी में सड़क दुघर्टनाओं का सिलसिला लगातार बढता जा रहा है शायद ही कोई ऐसा दिन रहता हो कि सड़क खून से लाल न होती हो।खीरी पुलिस और एआरटीओ के खेल के चलते सड़क दुघर्टनाओं में मृतकों और घायलों का पिछला सारा रिकार्ड ही धवस्त होता जा रहा है पर जनता द्वारा चुने हुए जनप्रतिनिधि भी इसे रोकने के लिए आगे आने की जहमत मोल लेना उचित नहीं समझ रहे हैं और ना ही प्रदेश की सरकार और शासन तथा विपक्षी दल सभी मूकदर्शक बने हुए हैं।सड़क दुघर्टना को रोंकने और कम करने के लिए सबसे पहले थाना कोतवाली चौकियां तथा एआरटीओ को अपनी जिम्मेदारी का पालन करना होगा।सड़क पर दौड़ने वाले वाहनो की लाइटों की जाँच हो,वाहनों को ओवर और हाईलोड को बंद किया जाए,मानक के अनुसार वाहनों का संचालन हो,बगैर रजिस्ट्रेशन के संचालित भारी ट्रालों और ट्रालियों का संचालन बंद हो,सवारियों को ढोने वाले वाहनों की जाँच हो कि वह मानक के अनुसार सवारियों को ढोएं तथा उनकी गाड़ी की हालत की जाँच मौके पर ही हो,रसोई गैस से संचालित वाहन तत्काल बंद हो,मोटरसाइकिल पर दो सवारी से अधिक पाए जाने पर केवल चालान नही बल्कि मोटरसाइकिल को सीज किया जाए,अगर चार सवारियों के मिलने पर चालक की गिरफ्तारी भी सुनिश्चित हो,नाबालिग ट्रेक्टर,मोटरसाइकिल व ई रिक्शा चलाते पाए जाने पर वाहन सीज होना चाहिए इससे सड़क दुघर्टनाओं पर रोक लगेगी पर इसके लिए जरुरी है कि अवैध धन उगाही को तत्काल बंद किया जाए और ईमानदारी से प्रयास किया जाए पर जनपद खीरी जो कि अधिकारियों के लिए चरागाह के नाम से जाना जाता है वह अपने को बदलने के लिए तैयार नहीं है और अब सिर्फ उप्र सरकार और शासन को अपने आदेश का पालन कराने के लिए आगे आना होगा तथा लखनऊ से टीम का गठन कर गोपनीय तरीकों से जाँच करानी होगी तब जाकर सड़क दुघर्टनाओं पर रोक लगेगी व अवैध धन उगाही करने वाले तथा रिश्वतखोर अधिकारी भी दंडित हो सकते है।समाज में संदेश भी ठीक ढंग से पहुंच सकता है और निरीह तथा अचानक किसी को मौत के काल से मुक्ति भी मिल सकती है

INPUT – मोहम्मद असलम