Visitors have accessed this post 69 times.

अलीगढ : सावन के पवित्र महीने में प्राचीन आयुर्वेद पद्धति के अनुसार स्वर्णप्राशन संस्कार का दूसरा शिविर आरोग्य हेल्थ केयर एंड पेन मैनेजमेंट सेंटर द्वारा मसूदाबाद के महिंडा होम्स अपार्टमेंट में लगाया गया।
ज्योतिष के अनुसार पुष्य नक्षत्र में किये जाने वाले स्वर्ण प्राशन संस्कार का मंगलवार प्रातः 8 बजे विधि विधान से डा. बसंत कुमार सिंह, डा.श्वेता सिंह, डा.कुशल ने दीप प्रज्जुलन कर प्रारंभ किया,जिसमे लगभग 100 बच्चों ने लाभ लिया हेल्थ केयर के मेनेजिंग डायरेक्टर डा. बसंत कुमार सिंह ने बताया कि जन्म से 16 वर्ष तक के बच्चों में स्वर्ण प्राशन से शारीरिक एवं मानसिक बल दोनों ही बढ़ते हैं,पाचन शक्ति बढ़ती है, बच्चों की रोग से लड़ने की क्षमता में बहुत अधिक विकास होता है, मानसिक रोग दूर होते हैं तथा मानसिक स्वास्थ्य बहुत अच्छा हो जाता है। बच्चों में बार-बार होने वाले इन्फेक्शन और मौसमी बीमारियां जैसे सर्दी, जुकाम, बुखार आदि से भी बचाव के लिए यह संस्कार अत्यंत जरूरी है।
उन्होंने बताया कि आजकल बच्चों में स्कूल व घर दोनों ही तरफ से पढ़ाई का बहुत अधिक दबाव बना हुआ है समाज में प्रतिस्पर्धा की भावना बहुत अधिक बलवान है जिसके कारण बच्चे बहुत अधिक तनाव में रहने लगे हैं,स्वर्णप्राशन इस तनाव को दूर करता है।दवा में स्वर्ण भस्म होने के कारण बच्चों की स्मरण शक्ति बढ़ाने, हकलाने और तुतलाने को ठीक करने में विशेष लाभकारी है।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें :-