Visitors have accessed this post 141 times.

पुरदिलनगर के मेला श्री कृष्ण जन्माष्टमी कमेटी द्वारा विराट कवि सम्मेलन का पुलिस चौकी चौराहा पर आयोजन किया गया। संचालन प्रसिद्ध हास्यकवि लटूरी लठ्ठ ने किया एवं अध्यक्षता कवि टिल्लन वर्मा उझानी ने की । वहीं कवि सम्मेलन संयोजक शिवम आज़ाद रहे । कासगंज से पधारे अंतरराष्ट्रीय गीतकार डा. अजय अटल ने अपनी इस वंदना से कवि सम्मेलन की शुरुआत की-सुनाया
मा उँगली से छू रही तार वीणा से निकल रही संगम
झन झनन झनन झन झनन झनन
झन झनन झनन झन झनन झनन

रूविया खान अलीगढ़ ने सुनाया
समंदर से किनारों का जो संगम खास हो जाता
हमारी भी मुहब्बत का जरा अहसास हो जाता।

मोहित सक्सेना आगरा ने सुनाया
तुम कहो दुहसासनों का वक्ष फोड़ें क्यों नहीं।
सिंहनी के पुत्र हैं तो हम दहाड़ें क्यों नहीं

पदम अलवेला हाथरस ने सुनाया
कहा मेरा जिय मानियो, मै समझाऊँ तोय।
बाते झगड़ों मति करै, जो तोते तगड़ौ होय।।

टिल्लन वर्मा उझानी ने सुनाया
बेटी विदा हुई क्या घर से पापा रिश्तेदार हो गये।
बहुओं की नजरों में शायद ,अब रद्दी अख़बार हो गये।

लटूरी लठ़ठ टूंडला ने सुनाया
मेरे हाथ में सिर्फ इसलिए, कोई दुख की रेखा नहीं है।माता पिता के आलावा मैंने किसी भगवान को देखा नहीं है।

अंशू छोंकर अवनी आगरा ने सुनाया
जिनकी मेंहदी और महावर कंधा देती हैं ।
उन मागों का सिन्दूर गोद तिरंगे देता है।।

शिवम कुमार आजाद सिकन्दा राऊ ने सुनाया
मेरे देश की सरहदों का सिपाही उठा शीश
दुश्मन से ये कह रहा है।
तुम्हारे वतन में लहू बह रहा है हमारे लहू में वतन बह रहा है।।
नगर पंचायत अध्यक्ष हर्ष कांत कुशवाह ने कवियों का शील्ड व पत्ता पहनाकर सम्मानित किया मौके पर मेला संयोजक सुरेश आर्य,दिनेश गुप्ता,बंटीआर्य,अनुरुद्ध व्याणी,सचिन दीक्षित,वरुण राठी,सोनू व्याणी, अनिल माहेश्वरी, हरीश कुमार गोयल,शशी शर्मा मौजूद रहे।

INPUT – PUSHPKANT SHARMA

यह भी देखें :-