Visitors have accessed this post 183 times.

हाथरस। श्यामकुंज स्थत एमएलडीबी पब्लिक इण्टर कालेज में 11वाँ अन्तरार्ष्ट्रीय बालिका दिवस धूमधाम से मनाया गया। कायर्क्रम को सम्बोधित करते हुये संस्था के डायरेक्टर स्वतंत्रा कुमार गुप्त ने बताया कि इस दिन को मनाने का उद्देश्य बालिकाओं में सशक्तिकरण और मानवाधिकार के प्रति जागरूकता उत्पन्न कर देने के साथ उनकी आवश्यकताओं एवं उनकी चुनौतियों को उजाकर करना एवं उनका समाधान करना है। वतर्मान में हमारे जनपद में जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा उपाध्याय, विधायक सदर अंजुला सिंह माहौर, नगर पालिका अध्यक्ष श्वेता चौधरी एवं जिलाधिकारी अचर्ना वर्मा के द्वारा किये जा रहे उत्कृष्ट प्रयासों ने यह सिद्व कर दिया है कि ऐसा कौन सा लक्ष्य शेष है, जिसे महिलायें पूरा नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि आज की नारी अबला नहीं है बल्कि वह तो श्रद्वा का स्वरूप है, उसके चरणों में विश्वास एवं लक्ष्मी का निवास होता है। अपने उत्कृष्ट कार्यो से वह पुरूष के जीवन को अमृतमय बना देती हैं। वास्तविकता तो यह है कि वह पुरूष की आदिशक्ति है। अतः नारी को कभी भी अपने आपको दुबर्ल एवं कमजोर नहीं समझना चाहिये एवं अपनी झिझक को त्यागकर निरंतर आगे बढ़ना चाहिये, जिससे उनका जीवन-उपवन ऊँचाईयों की सुगन्ध सुरभित हो सके। इस अवसर पर कालेज के प्रशासनिक प्रमुख हषिर्त गुप्ता (एडवोकेट) द्वारा भारतीय संविधान में प्रदत्त बालिकाओं के अधिकारों से उनको अवगत कराया गया।
इस अवसर पर बालिकाओं द्वारा मनमोहक प्रस्तुतियां दी गयीं, जिसमें कवितागान, समूहगान, नृत्य एवं महिला सशक्तिकरण से सम्बन्ध्ति ‘‘हमारे अध्किार ही हमारा भविष्य’’ विषय पर प्रश्नोत्तरी का भव्य आयोजन किया गया, जिसमें कशिश भारती ने प्रथम, शिवी ने द्वितीय, कवितागान में आराध्या, यशी अग्रवाल ने प्रथम व गुंजन शर्मा ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। नृत्य में युविका, तनिष्का, आराध्या व भूमिं ने प्रतिभाग किया। समूहगान में नव्या, यशिका, पायल ने प्रथम, वाद्ययंत्रा वादन (तलबा) में पल्लवी, तपस्या, श्रद्वा व तान्या एवं कांगो पर युविका, योगिता, गुंजन एवं भूमि द्वारा उत्कृष्ट प्रस्तुतियां दी गयीं।
कायर्क्रम को सपफल बनाने में काजोल वाष्णेर्य, निध चतुर्वेदी, प्रियंका सिंह, उप-प्रधानाचार्य साजिया रफीक खान, सत्यवती, जीतू अरोरा, पुनीत गुप्ता, पुनीत वाष्णेर्य, राजेन्द्र प्रसाद, श्याम सिंह आदि का सहयोग रहा। कायर्क्रम का उत्कृष्ट संयोजन ललिता पाठक द्वारा किया गया। अन्त में संस्था के डायरेक्टर स्वतंत्रा कुमार गुप्त एवं प्रधानाचार्य पूनम वाष्णेय द्वारा सभी का आभार व्यक्त किया।

यह भी देखें :