Visitors have accessed this post 450 times.

उत्तर प्रदेश राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग लखनऊ एवं जिलाधिकारी श्रीमती अर्चना वर्मा जी के निर्देशन व जिला प्रोबेशन अधिकारी सीमा मौर्या के मार्गदर्शन में मिशन शक्ति फेज-4 के अंतर्गत कन्या गुरुकुल सासनी, हाथरस में महिला कल्याण विभाग हाथरस द्वारा ‘बाल विवाह विरोधी जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
जिसमें संरक्षण अधिकारी विमल कुमार शर्मा ने समस्त छात्राओं को उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना सामान्य, किशोर न्याय अधिनियम, बाल श्रम, एक युद्ध नशे के विरुद्ध, दत्तक ग्रहण, पोक्सो अधिनियम 2012, एवं बाल विवाह अधिनियम 2006 की अंतर्गत 18 वर्ष से कम उम्र की बालिका एवं 21 वर्ष से कम उम्र के बालक का विवाह न कराये जाने की अपील कर जागरूक किया गया तथा समस्त छात्राओं को बाल विवाह न होने देने की शपथ दिलाते हुये उन्हे बाल विवाह होने के कारण एवं उसके दुष्परिणामों के बारे में विस्तृत रूप से जानकरी देते हुए कहा सामाजिक कुरीतियां, आर्थिक स्थिति , प्रथाएं एवं परम्पराओं के कारण बाल विवाह कर दिया जाता है। जिसके कारण बालिकाओं को शक्ति, परिपक्वता न होने के कारण घरेलू हिंसा, शिक्षा से वंचित हो जाना, गम्भीर बीमारी से ग्रसित होना तथा मातृत्व सम्बन्धित एवं शिशु मृत्यु की दर भी बढ़ जाती हैं। बाल विवाह की जानकारी होने पर चाइल्ड हेल्पलाइन नम्बर 1098 (24 Hours Toll Free) महिला हेल्पलाइन नम्बर -181 (24 Hours Toll Free) पर सूचित करने के साथ ही पास के पुलिस थाने में अथवा 112- इमरजेंसी नम्बर पर सूचना दिये जाने को जागरूक किया गया। उन्होने यह भी बताया कि बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम 2006 की धारा-9 एवं 10 के अन्तर्गत बाल विवाह सम्पादित किये जाने पर 1 लाख रुपये का जुर्माना अथवा 2 वर्ष तक की सजा हो सकती है।
इस अवसर पर कन्या गुरुकुल की मुख्याधिषठात्री एवं आचार्या डॉ पवित्रा शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किये तथा महिला कल्याण विभाग द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का पात्रता के अनुसार लाभ लेने हेतु और उच्च शिक्षा के लिए छात्राओं को प्रेरित किया साथ ही बाल विवाह न होने के लिये जागरूक किया।
प्रबंधक, वन स्टॉप सेंटर मनीषा भारद्वाज द्वारा कन्या सुमंगला योजना, वन स्टॉप सेंटर के बारे में विस्तार से जानकारी देने के साथ साथ सभी छात्राएं अपने आस-पास के लोगों को भी बाल विवाह के दुष्परिणामों के विषय में जानकारी देकर जागरूक करें और यदि कोई बाल विवाह होने की जानकारी प्राप्त हो, तो तत्काल हेल्पलाइन नम्बरों पर सूचना देने हेतु प्रेरित किया।
इस अवसर पर गुरुकुल की शिक्षक एवं शिक्षकाए डॉ सविता, श्री विनोद कुमार, कुमारी ललितेश आर्या, गायत्री, सुमेधा धीरेंद्र मुद्गल, लक्ष्मी देवी एवं रामगोपाल दीक्षित समाजसेवी आदि उपस्थित रही ।

INPUT – VINAY CHATURVEDI

यह भी देखें:-