Visitors have accessed this post 304 times.

हाथरस, वैश्विक बीमारी कोरोना आपातकाल में हाथरस के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बृजेश राठौर एवं डॉ. पवन कुमार छौंकर द्वारा सरकार के दिशा निर्देशों का उल्लंघन और कोरोना पीड़ित परिवारों को प्रताड़ित करने का कार्य किया जा रहा है
एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक हृयूमन राइट्स द्वारा राष्ट्रीय महासचिव प्रवीन वार्ष्णेय के नेतृत्व में एक ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में ओसी कलेक्ट्रेट को सौंपा ज्ञापन के माध्यम से कहा कि सीएमओ डॉ बृजेश राठौर ने जनपद में प्रारंभ से ही स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का हाल बेहाल कर दिया गया है सरकार द्वारा जनहित में दी जा रही स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ आम जनमानस को भी नहीं दिया जा रहा है और हठधर्मी एवं तानाशाही रूप से कार्य कर रहे हैं। लाँकडाउन प्रारंभ होने पर भारत सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बार-बार आम लोगों से मास्क पहनने की अपील/ आदेश जारी किए गए लेकिन पहले भी हाथरस सीएमओ अपील और दिशानिर्देशों को दरकिनार करते हुए कहते रहे है कि ऐसी कोई जरूरत नहीं है मास्क हम लोग भी नहीं पहन रहे है और हम अपने किसी स्टाफ को भी नहीं दे रहे हैं।अब जाकर उन्होंने मास्क पहनना शुरू किया है
और आगे कहा कि उ.प्र.सरकार एवं हाथरस प्रशासन के द्वारा कोरोना जैसी वैश्विक बीमारी को काफी अच्छी तरीके से कंट्रोल कर लिया गया था। लेकिन सीएमओ डॉ. बृजेश राठौर की लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना कार्यों से हाथरस जनपद कोरोना पॉजिटिव की लिस्ट में पुनः आ गया।
हाथरस जनपद में स्वास्थ्य विभाग बहुत ही लापरवाह तरीके से कार्य कर रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बृजेश राठौर ने आज तक डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी, नर्स ,स्वीपर आदि कोरोना वैश्विक महामारी से लिए लड़ रहे योद्धाओं को पीपीई किट, मास्क,सैनिटाइजर आदि जरूरी लाइफ सेविंग उपकरण भी नहीं उपलब्ध कराये है। जबकि सरकार द्वारा प्रत्येक जिले में इस तरह के बचाव के लिए जरूरी सामान उपलब्ध कराए गए हैं उनका आज तक वितरण नहीं किया गया है।
स्वास्थ्य टीमें स्वयं की रिस्क और स्वयं के खर्चे पर अपना बचाव कर रही हैं स्वयं मास्क, पीपीई किट आदि उपकरण स्वयं खरीद कर कार्य में लगी हुई है। जब स्वास्थ्य विभाग ही सुरक्षित नहीं है तब ऐसी स्थिति में आम लोगों की क्या स्थिति होगी?
प्रशासनिक कार्य कुशलता से जनपद हाथरस कोरोना मुक्त हुआ था लेकिन मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ बृजेश राठौर की घोर लापरवाही की वजह से हाथरस पुनः कोरोना युक्त की लिस्ट में शामिल हो गया।
एक कैंसर पीड़ित जो 21 अप्रैल को नोएडा के प्राइवेट अस्पताल में अपनी कीमोथेरेपी कराने के लिए गए लेकिन डॉक्टर ने पहले कोविद-19 की जांच करने को कहा तो उन्होंने अपनी जनपद में ही कराने की कहकर वापस आ गए 23 अप्रैल को जिला अस्पताल में डॉक्टरों ने उनके नमूने लेकर घर भेज दिया। जिनकी जांच रिपोर्ट 27 अप्रैल को नेगेटिव आई वह 28 अप्रैल को जिला अस्पताल की नेगेटिव रिपोर्ट को लेकर पुनःनोएडा के प्राइवेट अस्पताल में पहुंचे लेकिन उस अस्पताल के डॉक्टरों ने जिला अस्पताल की रिपोर्ट पर विश्वास ना कर एक बार फिर अस्पताल में ही जांच कराई जिसकी जांच रिपोर्ट 29 अप्रैल को ईमेल द्वारा कोविद -19 की पॉजिटिव रिपोर्ट की सूचना पीड़ित परिवार को दी इसके बाद पीड़ित परिवार ने 29 अप्रैल को ही कोविद-19 की पॉजिटिव रिपोर्ट की सूचना सर्वप्रथम सीएमएस डाँ.आईवी सिंह के मो.न.9412216614,फिर सीएमओ डाँ. बृजेश राठौर के मो.न.8005192663 पर बात कर डॉ. पवन कुमार छौकर के मोबाइल नंबर(व्हाट्सएप) 09808866682 पर देदी वह रिपोर्ट दोपहर 3:34 पर सीन होने का ग्रीन सिग्नल भी आ गया। उसके बाद डॉक्टर के कहने पर मरीज को लेकर परिवारीजन सीमैक्स क्वारंटीन सेंटर पर पहुंचे वहां से उनके जांच के लिए नमूने लेकर वापस घर पर भेज दिया 30 अप्रैल को भी डाँ.पवन कुमार छौकर से भी बात हुई।
सबसे बड़ी लापरवाही यहीं से प्रारंभ हो गई जब कोई पीड़ित व्यक्ति अपने प्राइवेट हॉस्पिटल की रिपोर्ट को पॉजिटिव बता रहा है तो जांच नमूने लेने के बाद उनको कोविद अस्पताल में भेजना चाहिए था बल्कि उन्होंने उल्टे उनको घर वापस भेज दिया।
30 अप्रैल को पुन: पीड़ित के परिवारी जन ने व्हाट्सएप पर मैसेज डाल कर रिपोर्ट के बारे में पूछा।
1 मई को अलीगढ़ जेएन मेडिकल कॉलेज की रिपोर्ट पॉजिटिव आई उसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति को अलीगढ़ भेजा और परिवारीजनों को सासनी स्थित प्रकाश एकेडमी में क्वॉरेंटाइन कर दिया स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से अब 10 परिवारजनों की रिपोर्ट भी पोजिटिव आई है ।
इस पूरे वाक्य से स्पष्ट होता है कि जिम्मेदार मुख्य चिकित्सा अधिकारी हाथरस डॉ बृजेश राठौर एवं डॉ पवन कुमार छौकर की घोर लापरवाही से हाथरस पुनः कोरोना संक्रमण की स्थिति में आ गया।

INPUT – Adil Khan

यह भी पढ़े : इन पौधों को लगाने से आपके घर के आसपास नहीं होगी ऑक्सीजन की कमी

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave