Visitors have accessed this post 174 times.

पूरी खबर के लिए क्लिक करें

सादाबाद तहसील के सभी गांवों में पशुओं के आधार कार्ड बनाने का अभियान शुरू हो गया । तहसील के अंतर्गत सादाबाद एवं सहपऊ ब्लॉक के सभी गांवों में एक साथ यह अभियान आज शुरू हुआ ।

उप मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी डॉ बी गोयल ने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा गत वर्ष राष्ट्रीय पशुरोग नियंत्रण कार्यक्रम का उद्घाटन मथुरा में वैटरिनरी विश्वविद्यालय में किया गया था । इस कार्यक्रम के अंतर्गत सभी पशुओं को विशिष्ट पहचान संख्या के टैग डाले जायेंगे एवं रोगों से बचाव हेतु खुरपका मुंहपका एवं ब्रूसेल्लोसिस से बचाव हेतु निशुल्क टीकाकरण किया जायेगा । सादाबाद ब्लॉक की 58 व सहपऊ ब्लॉक की 51 ग्राम पंचायतों में घर- घर जाकर पशुओं के कान में एक प्लास्टिक का बिल्ला लगाया जा रहा है जिस पर 12 अंकों की एक विशिष्ट पहचान संख्या अंकित है । यह संख्या पूरे देश में एक पशु को एक दी गई है एवं इस कोड नंबर के आधार पर पशु एवं पशु स्वामी का विवरण कम्प्यूटर में संकलित किया जाना है ।
हर ग्राम सभा से दो व्यक्तियों का चयन वैक्सीनेटर एवं सहायक के रूप में किया गया है ये चयनित वैक्सीनेटर एवं सहायक अपनी-अपनी ग्राम सभा के सभी पशुओं को ये विशिष्ट पहचान संख्या वाले टैग लगायेंगे ।

वैक्सीनेटर एवं सहायकों को पशुचिकित्सालय सादाबाद पर डॉ बी गोयल के निर्देशन में पशुधन प्रसार अधिकारी नेहा शर्मा द्वारा टैग लगाने एवं उसके अनुसार विवरण इनाफ पोर्टल पर अपलोड करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है ।
अन्य पशुचिकित्सालयों पर डॉ आशीष यादव, डॉ जनार्दन सिंह, डॉ दिनेश कुमार एवं डॉ देवेन्द्र सिंह के निर्देशन में प्रशिक्षण कार्य चल रहा है ।
सादाबाद ब्लॉक में अभी तक 8000 पशुओं को टैग लगाये जा चुके हैं एवं कुल टैग संख्या 71 हजार से अधिक संभावित है । एक बार जब टैग लग जायेंगे तो अगले महीने टीकाकरण के समय इस टैग को मोबाइल से स्कैन करते ही उस पशु, मालिक का संपूर्ण विवरण सामने होगा और बस टीकाकरण की तारीख अपलोड की जायेगी । भविष्य में सभी योजनाओं आदि के लिये यह टैग नंबर ही जरूरी होगा इसलिए जैसे हम लोगों के लिए जो जरूरत आज आधार कार्ड की है कमोबेश वैसी ही जरूरत इस टैग नंबर की होने वाली है