Visitors have accessed this post 312 times.

बिधनू थाना क्षेत्र अंतर्गत पढ़ने वाली सेन चौकी पहले पहाड़पुर गांव से लगभग 7 किलोमीटर दूर सेन पश्चिम पारा गांव में थी जहां से हाईवे तक आने में लगभग 5 किलोमीटर का सफर पुलिसकर्मियों को करना पड़ता था विगत 2 वर्ष पूर्व क्षेत्रीय पार्षद और जनता के प्रयास से सेन चौकी का पुलिस कैंप पहाड़पुर गांव के नजदीक हाईवे में बना दिया गया जिसके बाद से बराबर यहां पर पुलिस मौजूद रहती है इस वजह से हाइवे में समाधि पुलिया से रमईपुर के बीच होने वाली दुर्घटनाओं में कमी आई है दुर्घटना होने पर पुलिस मौके पर पहुंच जाती है जिससे कि कई बार दुर्घटना में घायल व्यक्ति को समय में उपचार मिलने से उसके जीवन की भी रक्षा हुई है अगर पूर्व की बात की जाए तो सेन चौकी हाईवे से लगभग 5 किलोमीटर थीसेन चौकी की बात की तो इसमें आने वाले क्षेत्र बिंगावान पहाड़पुर टीकापुर कई प्रकार की अपराधिक घटनाएं होती रही हैं जब से यहां पर चौकी आई है तब से यहां पर होने वाली अपराधिक घटनाओं में कमी हुई है

चौकी क्षेत्र में ही कानपुर विकास प्राधिकरण ने स्थापित किए स्थाई मौरंग मंडी

इस चौकी क्षेत्र की बात की जाए तो यहां पर कानपुर विकास प्राधिकरण नौबस्ता से हटाकर स्थाई मौरंग मंडी को स्थापित किया है जिसके बाद यहां पर ट्रांसपोर्टरों के साथ मौरंग के व्यापारी हर समय मौजूद रहते हैं यहां पर पुलिस का पॉइंट होने से और चौकी होने से इन सभी को किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होती है साथ ही साथ जाम की समस्या से भी निजात मिलता है क्योंकि चौकी से मौरंग मंडी की दूरी बा मुश्किल 1 किलोमीटर पड़ती है व्यापारियों का कहना है चौकी होने से उन्हें किसी प्रकार का कोई भी भय नहीं होता है

जाम का विकल्प भी है यहां पर चौकी

अगर नौबस्ता सागर राष्ट्रीय राजमार्ग की बात की जाए तो यहां पर चौकी होने से इस बात का भी फायदा मिलता है कि यहां पर हर समय जाम की स्थिति बनी रहती थी पूर्व के समय में क्योंकि मौरंग के ट्रक के साथ ही छोटे दो पहिया वाहन कार बराबर इस रोड में चलती जिसके बाद कई बार यहां पर जाम की स्थिति बन जाती थी पर जब से यहां पर चौकी आई है यहां पर पुलिस मौजूद रहती है अगर जाम की स्थिति बनती है तो जल्दी उस पर काबू पा लिया जाता है और यातायात सामान्य हो जाता है

पार्षद क्षेत्र की जनता ने प्रयास करके जिलाधिकारी महोदय को अवगत कराते हुए इस जगह पर चौकी बनाने का सुझाव दिया था जिसके बाद यहां पर एक पिकेट पॉइंट के रूप में चौकी को स्थापित किया गया और उस समय सीओ साहब की मौजूदगी में यहां पर उद्घाटन हुआ था अगर यहां पर बने शौचालय की बात की जाए तो वह विगत 1 वर्षों से उपयोग नहीं हो रहा था और उसके बगल में खाली पड़े क्षेत्र में चौकी को बनाया गया था क्षेत्र की जनता का कहना है यहां पर चौकी आने के बाद अराजक तत्वों का आना जाना बंद हो गया साथ ही साथ यहां पर होने वाली अपराधिक घटनाओं में भी कमी आई है अगर क्षेत्र की बात की जाए या थाने का बॉर्डर क्षेत्र पड़ता है यह क्षेत्र नौबस्ता थाने का बॉर्डर क्षेत्र पढ़ता था यहां से बिधनू थाना की दूरी लगभग 5 किलोमीटर पड़ती है यहां पर चौकी बनने से यह क्षेत्र आसानी से पुलिस की निगरानी में रहता है इस चौकी के समीप इस थाने के अंतर्गत पड़ने वाली गल्ला मंडी समाधि मार्केट भी है जहां पर लोगों का आना जाना बराबर रहता है

अगर पहाड़पुर स्थित सेन पुलिस सहायता केंद्र की बात की जाए तो यहां पर पुलिस बराबर मौजूद रहती है जिससे अपनी शिकायतें लेकर आने वाले लोग आसानी से अपनी समस्याओं का निराकरण करा लेते हैं यहां पर पुलिस सहायता केंद्र बनने से आसपास के क्षेत्रों में बराबर संवेदनशील क्षेत्रों में गश्त भी होता रहता है जिसके कारण चैन स्नैचिंग जैसी घटनाएं भी नहीं घटित हो पाती |

INPUT – अभय ठाकुर