Visitors have accessed this post 26 times.

हाथरस : पुलिस अधीक्षक हाथरस विनीत जायसवाल द्वारा ब्रह्माकुमारीज के युवा प्रभाग 2021 के लिए “विश्व शांति के लिए युवा “ (यूथ फॉर ग्लोबल पीस) प्रोजेक्ट के शुभारम्भ के अवसर पर पीसी बाग्ला डिग्री कालेज में आयोजित कार्यक्रम में पहुँचकर युवाओ को सम्बोधित किया । पुलिस अधीक्षक हाथरस विनीत जायसवाल के द्वारा ब्रह्माकुमारीज के युवा प्रभाग 2021 के लिए “विश्व शांति के लिए युवा “ (यूथ फॉर ग्लोबल पीस) प्रोजेक्ट के शुभारम्भ के अवसर पर पीसी बाग्ला डिग्री कालेज में आयोजित कार्यक्रम में पहुँचे । जहाँ पुलिस अधीक्षक हाथरस द्वारा दीप प्रज्जवलित करके कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया । कार्यक्रम में ब्रह्राकुमारी शान्ता बहिन, प्राचार्य मेजर राजकमल दीक्षित, कॉलेज के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी चन्द्रशेखर रावल, सुनन्दा महाजन, बी0के0 श्वेता बहिन, बी0के0 गजेन्द्र भाई, बी0के0 दिनेश भाई, जितेन्द्र सिंह, भीमसैन, केशवदेव आदि व कॉलेज के छात्र छात्राए/युवा मौजूद रहे । इस कार्यक्रम मे पुलिस अधीक्षक हाथरस विनीत जायसवाल द्वारा सभी युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि हमारा देश युवाओ का देश है । विश्व की सबसे बड़ी वर्किंग पोप्यूलेशन भारत के पास है जिसके कारण सारा संसार भारत के युवाओं की ओर निहारता है । भारत की युवा आबादी भारत की सबसे बड़ी शक्ति है । युवाओं का चारित्रिक उत्थान लगातार होता रहे तो इससे सिर्फ भारत की नहीं अपितु पूरे विश्व को लाभ मिलेगा । ब्रह्राकुमारीज जैसी संस्थायें समाज में चरित्र निर्माण करने की दिशा में अपना अमूल्य योगदान दे रही है । कार्यक्रम मे पुलिस अधीक्षक हाथरस द्वारा आगे कहा कि किसी भी वस्तु का सकरात्मक उपयोग व्यक्ति के चरित्र पर निर्भर करता है। एक चाकू से डॉक्टर द्वारा ऑपरेशन भी किया जा सकता है और यदि आपराधिक मानसिकता हो तो किसी को नुकसान भी पहुँचाया जा सकता है। उसी प्रकार माचिस की तीली द्वारा चिराग रोशन करके अंधेरे को रोशन किया जा सकता है या फिर दुरुपयोग कर किसी के घर को भी फूँका जा सकता है । युवाओं में जोश है, ताकत है आवश्यकता संस्कारों को बनाये रखने की है। भारत ने प्राचीन काल से ही पूरे विश्व को ” वसुधैव कुटुम्बकम” का संदेश दिया है। अब युवा पीढ़ी के कंधों पर ये जिम्मेदारी है कि इस परम्परा को आगे बढ़ाएं और समाज के अभी वर्गों के उत्थान की दिशा में कार्य करें ।

INPUT – Brijmohan Thinua

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here