Visitors have accessed this post 35 times.

सासनी : खाद्य संरक्षण एक ऐसी प्रक्रिया है जो संग्रहीत भोजन को ताजा रखती है और इसे खराब होने से बचाती है। तरीकों में खाद्य पदार्थों का प्रशीतन, नमक, सिरका या कुछ उत्पादों के रासायनिक परिरक्षकों को जोड़ना, खाद्य पदार्थों का सूखना और डिब्बाबंदी शामिल हैं। ये भोजन को बाद में खपत के लिए अपनी ताजगी बनाए रखने में मदद करते हैं। खाद्य संरक्षण भोजन में बैक्टीरिया को मारता है, जो अन्यथा इसे खराब कर देगा।
बुधवार को यह बातें के एल जैन इंटर कालेज में सेवानिवृत फल एवं खाद्य संरक्षण अधिकारी विनोद कुमार शर्मा ने बच्चों को फल और सब्जी संरक्षण प्रशिक्षण के दौरान बताई। उन्होंने बच्चों को खाद्य संरक्षण के प्रशिक्षण में सब्जियों से निर्मित जैम, जैली, मार्मलेड, टमाटर कैचअप, नवरत्न चटनी, शाही आफ्जा, आदि तैयार करने की विधि बताई। प्रशिक्षण का शुभारंभ प्रधानाचार्य डा. दीपक जैन ने मां सरस्वती के छबिचित्र के सामने दीप जलाकर किया। श्री शर्मा ने बच्चों को आॅरेंज नेक्टर एवं सब्जियों का मिश्रित अचार बनाने का प्रदर्शन किया। तथा फल संरक्षण इकाई को अपने पिरवार की आय अर्जित करने की प्रेरणा दी। प्रशिक्षण के दौरान अनूप शर्मा, सर्वेस जैन, राजकिशोर शर्मा, हेमंत शर्मा, धर्मेन्द्र यदुवंशी, तथा छात्र अमित कुमार, विकास कौशिक, खर्गेश वाष्र्णेय, भूपेन्द्र प्रमोद, कुमार, गोविंद त्रिगुनायत, रोहित शर्मा, दुर्गेश कुमार, हर्षित जादौन, आदि का विशेष सहयोग रहा।

इनपुट : आविद हुसैन

यह भी देखे : क्या आपने देखी है मिठाइयों की इतनी वैरायटी

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप\

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here