Visitors have accessed this post 562 times.

मुरसान : फाइनेंस कंपनी की मनमानी और दबंगई जगजाहिर है प्राइवेट फाइनेंस कंपनी किसी सूदखोर से कम उत्पीड़न नहीं करती हैं । कस्बा मुरसान में मोटरसाइकिल एजेंसी पर आप जाओगे तो सबसे पहले आपको तमाम प्रकार के प्रलोभन दिया जाएगा । कई प्रकार के प्रलोभन मिलने से आप भी मोटरसाइकिल खरीदने के लिए मजबूर हो जाओगे । जब आप मोटरसाइकिल फाईनेंस करा लेंगे उसके बाद आपकी समय से क़िस्त भरती रहेंगी तो कोई भी समस्या नही रहती । जब आपकी किसी समस्या से दो से तीन क़िस्त रुक जाती हैं तो प्राइवेट फाइनेंस कंपनियां दबंगई पर उतर आती हैं । और लोगों को शारीरिक और मानसिक रूप से बेइज्जत और परेशान करती हैं। सामाजिक रूप से प्रतिष्ठित व्यक्तियों के लिए जीना दुश्वार हो जाता है । प्राइवेट फाइनेंस कंपनी के दबंग इतना ही नही लोगो को चुना भी लगा देते हैं । वो भी कैसे जब आपकी क़िस्त कम्पनी द्वारा दिये गए समय से भरने में लेट हो जाती हैं तो यह अपनी जेब से कम्पनी को पैसे जमा कर देते हैं । और फाईनेंस कर्मी इसी एवज में आपसे 300 से 400 रुपये तक पेलेंटी के नाम पर कमा लेते हैं । फाईनेंस कम्पनीया भी दबंग लोगो को क़िस्त उघाने का काम सौपती हैं । कस्बा मुरसान के दुलारी चौकी पर स्तिथ मोटरसाइकिल एजेंशी पर दबंग फायनेंसर कर्मी बिना नोटिस या पुलिस के सहयोग से कई बार लोगो की मोटरसाइकिल घर से छीनकर ले गए हैं । एक ओर तो कोरोना के चलते हुए लॉकडाउन के समय में लोगो की रोजी रोटी के लाले पड़ गए थे । वही दूसरी ओर अब फाईनेंस कर्मियों की दबंगई से लोग परेशान हैं । ऐसे में प्रशासन को इन फाईनेंस कम्पनियों और फाईनेंस कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करने की जरूरत है ।

इनपुट :- बृजमोहन ठेनुआ

यह भी देखे : मार्च माह मे रिलीज़ होने वाली मूवीज़

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

https://play.google.com/store/apps/details?id=com.tv30ind1.webviewapp