Visitors have accessed this post 53 times.

जलेसर खारे पानी के क्षेत्र में सिंचाई के लिए मात्र साधन सकरौली राजवाह में पिछले 3 माह से पानी ना आने के कारण किसानों को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है सिंचाई को तो पानी उपलब्ध ना हो पाने के कारण गेहूं की खेती के उपरांत खेत खाली पड़े हैं विद्युत व्यवस्था भी भगवान भरोसे पर चल रही है कैसे करें खेती किसानों को यही चिंता खाए जा रही है सकरौली राजवाह में पानी न होने के कारण ग्राम नगवाई, शाहगढी, नगला मितन, नगला बंबी नगला मीरा दिलोखरा, नगला लाल सिंह, टिपरिया, भुररका, सकरौली, सौना, मई, नगला सुखदेव, ग्वालियरा, काजीपुर बदनपुर, गुदाऊ आदि दर्जनो गांव की हजारों बीघा जमीन बिना पानी के खाली पड़ी हैं लाकडाउन के चलतें पहलें से ही परेशान हैं। सनद रहे उक्त राजवाह में नियमित पानी उपलब्ध कराने के लिए किसान दयाराम पागल के दुआरा तहसील से लेकर मुख्यालय आवास पर सैकड़ो बार अनशन किया था।भाकियू भानू के दुआरा भी दर्जनों बार आन्दोलन किया था। हर बार आश्वासन का पिटारा थमाया जाता रहाँ है।मौजूद समय भी पिछले तीन महीने से उक्त राजवाह में पानी उपलब्ध नहीं हो पाया लाकडाउन के चलतें किसान यूनियन भी परेशान हैं। कैसे आन्दोलन कर पाएं।

लाकडाउन के चलतें किसान यूनियन भी परेशान हैं कि कैसे कर पायें आन्दोलन सिंचाई हेतु सकरौली राजबाह में पानी उपलब्ध करायें की मांग करनें वालों में भारतीय किसान यूनियन भानू के प्रदेश अध्यक्ष योगश प्रताप सिंह, मंडल महासचिव लखन यादव, नगवाई के कैलाश यादव मुकेश यादव, दिलोखरा बंटी यादव, सकरौली सत्येंद्र सिह जादौन, बदनपुर के लोकेंद्र यादव राम रायपुर के देवेंद्र सिंह नगला मीरा के कालीचरण यादव आदि हैं।भारतीय किसान यूनियन भानू के मंडल महासचिव लखन यादव का कहना है कि राजवाह में पानी ना आने के कारण गेहूं की फसल में पैदावार कम हुई पिछले 3 माह से खेत खाली पड़े हैं किसान पलायन को विवश होगा।

गोलू यादव का कहना था कि केंद्र सरकार एक और तो किसानों की आय दोगुनी करने की बात करती है वहीं दूसरी ओर डीजल बिजली आदि के दाम बढ़ा रहीं हैं वहीं सिंचाई के लिए पानी भी नहीं दे पा रहीं हैं।

 

रिपोर्ट : मोहित शर्मा

यह भी पढ़े : कैसे साइंटिस्ट और इंजीनियर ने समुद्र में पवन चक्कीया लगा खड़ी करी और उन से बिजली उत्पन्न की

अपने क्षेत्र की खबरों के लिए डाउनलोड करें TV30 INDIA एप

http://is.gd/ApbsnE

sasni new wave